उत्तराखण्डक्राइमगढ़वाल,

उत्तराखंड- यहाँ पुलिस के हत्थे चढ़े मोबाइल चोर गिरोह के 3 सदस्य सहित 2 नाबालिग, लगभग 31 लाख रुपए के कुल 81 मोबाइल फोन हुए बरामद

  • महिलाओं को बनाते थे निशाना, नक्सली इलाके व नेपाल में बेचते थे मोबाइल
  • दो नाबालिग बच्चों को भी रखा था गिरोह में, पुलिस ने बाल कल्याण समिति को सौंपे

ऋषिकेश न्यूज़- ऋषिकेश के डोईवाला थाना रानीपोखरी पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता। रानीपोखरी में हाट बाजार से चोरी तीन मोबाइल को ढूंढने के दौरान पुलिस के हत्थे अंतरराज्यीय मोबाइल चोर गिरोह के तीन सदस्य चढ़े। जिनके पास से लगभग 31 लाख के कुल 81 मोबाइल फोन बरामद हुए।

गिरोह के सदस्य यह मोबाइल झारखंड के नक्सली एरिया व नेपाल आदि में बेचते थे। जिनका उपयोग साइबर ठगी आदि में किया जाता था। तीन सदस्यों के साथ ही दो नाबालिग को भी पुलिस ने रेस्क्यू किया है। यह तीनों आरोपित अक्सर भीड़भाड़ वाले इलाकों में खासकर महिलाओं को निशाना बनाते हुए बच्चों से मोबाइल चोरी कराते थे। पुलिस ने इन बच्चों को जिला बाल कल्याण समिति के सुपुर्द कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- दंगों में सार्वजनिक और निजी संपत्ति को होने वाले नुकसान पर धामी सरकार का होगा सख्त एक्शन, वसूली के लिए बनेगा सख्त कानून

रानीपोखरी थानाध्यक्ष संदीप कुमार ने बताया कि शनिवार को थाना क्षेत्र अंतर्गत निवासी महिला दीपा राणा, यशस्वी धीमान, जाहिदा नेगी ने हाट बाजार में मोबाइल चोरी होने की शिकायत दी। जिसके बाद तत्काल ही हेड कांस्टेबल देवेंद्र सिंह नेगी, दिनेश सिंह, कर्मजीत, धर्मेंद्र नेगी के साथ ही टीम गठित करते हुए जांच शुरू की गई।

जांच के दौरान लगभग 30 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने पर तीन संदिग्ध प्रकाश में आए। जिन्हें निर्मल आई अस्पताल छिद्दरवाला की ओर जाने वाले अंडरपास से गिरफ्तार कर लिया गया। जिनकी तलाशी लेने पर कुल 81 मोबाइल फोन बरामद हुए। इनकी कीमत लगभग 31 लाख है।

यह भी पढ़ें 👉  14वी राज्य स्तरीय अबेकस कंपटीशन में लालकुआं के प्रियांशु अनेजा को पांचवा स्थान।

थानाध्यक्ष ने बताया कि पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वह रुद्रपुर, काशीपुर, हरिद्वार, देहरादून आदि जगहों पर घूमकर भीड़भाड़ वाले स्थान को चिह्नीत करते थे। जिसमें मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, हाट बाजार, हर की पैड़ी, मेले आदि प्रमुख हैं। जहां मौका मिलते ही वह मोबाइल चोरी कर लेते थे। दो नाबालिग बच्चों को भी गिरोह में रखा है। क्योंकि महिलाएं अधिकतर छोटे बच्चों से ज्यादा सावधान नहीं रहती है।

छोटे बच्चे आसानी से महिला का मोबाइल चोरी कर लेते हैं। चोरी के दो सौ- ढाई सौ मोबाइल इकट्ठे हो जाते थे तो वापस झारखंड जाकर अच्छे दामों पर नक्सली एरिया व नेपाल आदि में बेच देते थे। थानाध्यक्ष संदीप कुमार ने बताया कि आरोपित अमर कुमार महतो व राजेश कुमार निवासी तीन पहाड़, जिला साहिबगंज से क्रमश: 32 और 22 मोबाइल फोन और सुमित कुमार निवासी ग्राम सतपाल पड़ा, थाना राजमहल, जिला साहिबगंज, झारखंड से 27 मोबाइल फोन मोबाइल फोन बरामद किए गए।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी – यहाँ बाइक और स्कूटी की हुई जोरदार टक्कर में एक की मौत, तीन घायल

आरोपितों ने बताया कि दोनों बच्चों को कपड़े की फैक्ट्री में नौकरी लगवाने के नाम पर लाए थे। जिससे वह चोरी करा रहे थे। पुलिस ने दोनों बच्चों को रेलवे स्टेशन डोईवाला के पास से अपने संरक्षण में लेकर बाल कल्याण समिति के सुपुर्द कर दिया।