उत्तराखण्डकुमाऊं,

बिन्दूखत्ता शहीद स्मारक निर्माण को वन विभाग से मिली अनुमति, मंत्री बोले- जल्द होगा काम शुरू

रुद्रपुर न्यूज़– लालकुआं से देश के महानगरों के लिए बस सुविधा उपलब्ध कराने, बिंदुखत्ता में मिलिट्री कैंटीन के लिए जमीन उपलब्ध कराने सहित विभिन्न मांगों को लेकर भूतपूर्व सैनिक संगठन ने कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी से मुलाकात कर समस्याओं का निदान करने की मांग की।

 

सूबे के कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी से बिंदुखत्ता की समस्याओं के निदान के लिए भूतपूर्व सैनिक संगठन के पदाधिकारी ने मांग की कि हल्द्वानी बस स्टेशन से देश के महानगरों को जाने वाली सभी रोडवेज की बसें लालकुआं में बस स्टॉप से ही आगे जायें, पूर्व सैनिक संगठन के पदाधिकारीयों ने कहा कि यह मांग वह लंबे समय से करते हुए आ रहे हैं। परंतु आज तक इस पर कोई अमली जामा नहीं पहनाया गया है। कैबिनेट मंत्री ने परिवहन सचिव से इस विषय को गंभीरता से लेने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून -(भर्ती–भर्ती) सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए सुनहरा मौका, 222 दरोगाओं के पदों पर आई भर्ती, इस दिनांक से करे आवेदन

 

वही भूतपूर्व सैनिक संगठन के पदाधिकारी ने कहा कि जड़ सेक्टर के समीप एक बीघा जमीन उपलब्ध कराकर उसमें मिलिट्री कैंटीन व प्रशिक्षण भवन बनाने को लेकर लंबे समय से मांग कर रहे, जिस पर कार्यवाही तो लगभग हो चुकी है लेकिन अभी बादल पूर्ण रूप से छठे नहीं हैं जिस पर गणेश जोशी ने त्वरित कार्यवाही का आश्वासन दिया और संबंधित विभाग विभाग अधिकारियों से बातचीत कर उसे पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  सरकारी अस्पताल में घुसा गुलदार, मरीजों व स्टाफ की बाल-बाल बची जान, सीसीटीवी में कैद हुआ पूरा मामला

 

शिष्टमंडल मंडल ने बिंदुखत्ता में विद्युत समस्या को लेकर विद्युत ट्रांसफार्मर की लोड क्षमता बढ़ाने की मांग पर मंत्री गणेश जोशी ने ऊर्जा सचिव से त्वरित उक्त मामले को संज्ञान में लाते हुए कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां स्कूल की नाबालिग छात्राओं से छेड़छाड़ करने के मामले कलयुगी गुरु जी को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

 

शिष्टमंडल में भूतपूर्व सैनिक संगठन अध्यक्ष खिलाफ सिंह, कैप्टन प्रताप सिंह बिष्ट, चंचल सिंह कोरंगा, सुंदर सिंह खनका, नरसिंह रावत, दलबीर सिंह, प्रकाश मिश्रा, रणजीत सिंह गढ़िया, दिनेश देवराडी सहित दर्जनों पूर्व सैनिक संगठन के पदाधिकारी शामिल रहे।