उत्तराखण्डकुमाऊं,

देहरादून- बिंदुखत्ता को राजस्व गांव बनाने की मांग को लेकर विधायक डॉ मोहन सिंह बिष्ट के नेतृत्व में मुख्यमंत्री पुष्कर धामी से मिले वनाधिकार समिति के पदाधिकारी, सदस्य व ग्रामीण

लालकुआं न्यूज़- मुख्यमंत्री द्वारा बिंदुखत्ता को राजस्व गांव बनाने की घोषणा के बाद पहली बार बिंदुखत्ता की वनाधिकार समिति ने समस्त क्षेत्रवासियों की ओर से विधायक डॉ. मोहन सिंह बिष्ट के नेतृत्व में मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए राजस्व गांव की कर्यवाही को गति प्रदान कराने का मांग पत्र सौंपा जिस पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बिन्दुखत्ता को वनाधिकार अधिनियम के तहत शीघ्र ही राजस्व गांव बनाने का आश्वासन दिया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- नैनीताल दुग्ध संघ ने रक्षा बन्धन व जनमाष्ठमी पर्व के उपलक्ष्य में दुग्ध उत्पादको को दी सौगात।

 

वही शुक्रवार को बिंदुखत्ता की वनाधिकार समिति ने विधायक डॉ. मोहन सिंह बिष्ट के नेतृत्व में प्रदेश सचिवालय स्थित उनके कार्यालय में बिंदुखत्ता को राजस्व गांव बनाने की घोषणा के बाद पहली बार मुख्यमंत्री से शिष्टाचार मुलाकात के बाद आभार जताया और साथ ही वन अधिकार अधिनियम 2006 के प्रावधानों के अनुसार राजस्व ग्राम बनाए जाने हेतु गतिमान प्रक्रिया पर यथाशीघ्र अग्रिम कार्यवाही हेतु जिला स्तरीय समिति से शासन को अपनी स्वीकृति सहित प्रेषित कराने हेतु ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री ने इसे गंभीरता से लेते हुए वनाधिकार समिति से कुछ बिंदुओं पर जानकारी ली और आश्वासन दिया कि वे इस विषय में शीघ्र ही अग्रिम कार्यवाही करेंगे और जल्द ही बिंदुखत्ता को राजस्व ग्राम बनाए जाने का अपना वादा पूर्ण करेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून -(बड़ी खबर) यहाँ आबकारी महकमे में कई अधिकारियों पर गिरी गाज, कोई निलंबित तो किसी को पद से हटाया गया

 

वही मुख्यमंत्री से भेंट करने वाले शिष्टमंडल में क्षेत्रीय विधायक डॉ. मोहन सिंह बिष्ट के साथ वनाधिकार समिति के अध्यक्ष अर्जुन नाथ गोस्वामी, संरक्षक श्याम सिंह रावत, बसंत बल्लभ पांडे, बलवंत सिंह बिष्ट एवं सदस्यगण कुंदन सिंह चुफाल, चंचल सिंह कोरंगा और उमेश चन्द्र भट्ट के अलावा भाजपा मंडल अध्यक्ष जगदीश पंत उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यहाँ शेर नाले में बहे वाहन चालक की इस हालत में मिला शव, परिवार में मचा कोहराम, देखे वीडियो।

 

चित्र परिचय – मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौपते वन अधिकार समिति बिंदुखत्ता के पदाधिकारी।