उत्तराखण्डकुमाऊं,

उत्तराखंड में जंगल की आग ने वन विभाग के कर्मचारियों के छुड़ाये पसीने, नैनीताल में अब आग बुझाने के लिए NDRF ने संभाला मोर्चा

उत्तराखंड में जंगल की आग ने वन विभाग कर्मचारियों के पसीने छुड़ाए दिए हैं। रविवार को गढ़वाल से कुमाऊं तक आठ जगह जंगल धधके। अपर प्रमुख वन संरक्षक निशांत वर्मा के मुताबिक, नैनीताल वन प्रभाग की बडोन और मनोरा रेंज में वन कर्मचारियों के साथ आग बुझाने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) को तैनात किया गया है।

जंगल की आग को लेकर वन विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, गढ़वाल में वनाग्नि की दो और कुमाऊं में चार घटनाएं हुई हैं, जबकि दो घटनाएं वन्य जीव क्षेत्र की हैं। केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग के आरक्षित वन क्षेत्र में आग की दो घटनाओं में चार हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल में वन संपदा को नुकसान हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ खून से सना मिला युवती का शव, धारदार हथियार से रेता गया गला, छानबीन में निकली दारोगा की बेटी

अलकनंदा भूमि संरक्षण वन प्रभाग में वनाग्नि की एक, लैंसडाउन वन प्रभाग में एक, चंपावत वन प्रभाग में एक और सिविल सोयम अल्मोड़ा वन प्रभाग में वनाग्नि की एक घटना सामने आई है। इसे मिलाकर राज्य में अब तक वनाग्नि की घटनाएं बढ़कर 606 हो गई हैं। इसमें 220 घटनाएं गढ़वाल और 333 कुमाऊं मंडल की हैं, जबकि 53 घटनाएं वन्य जीव क्षेत्र की हैं, जिससे 735 हेक्टेयर से अधिक वन क्षेत्र प्रभावित हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- ग्राफिक एरा हिल यूनिवर्सिटी हल्द्वानी में मतदाता शिक्षा और भागीदारी पर जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

जंगलों की आग के मामले में वन विभाग की ओर से शरारती तत्वों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है। पिथौरागढ़ में अब तक सबसे अधिक 25 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है, जिसमें दो नामजद और 23 अज्ञात शामिल हैं। इसके अलावा अल्मोड़ा वन प्रभाग में 22 अज्ञात एवं नैनीताल वन प्रभाग में 12 नामजद के खिलाफ मुकदमा दर्ज है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- (अच्छी खबर) इस विभाग में 4500 पदों पर भर्ती को मिली मंजूरी

केदारनाथ वन प्रभाग में आठ अज्ञात, टिहरी में 20 एवं उत्तरकाशी वन प्रभाग में 13 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अब तक 196 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। जिसमें 29 नामजद और 173 अज्ञात के खिलाफ मुकदमे हैं।

वर्तमान में सभी जगहों पर जंगलों की आग नियंत्रण में है। जहां कहीं से आग की सूचना मिल रही है, टीम को मौके पर भेजा जा रहा है।
– निशांत वर्मा, अपर प्रमुख वन संरक्षक