उत्तराखण्डगढ़वाल,

उत्तरकाशी- ट्रैक पर गए लोनिवि के सहायक अभियंता की हार्टअटैक से मौत, साथी के साथ गए थे ट्रैकिंग पर

डोडीताल ट्रैक पर गए लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता की हार्टअटैक से मौत हो गई, जबकि उनका एक साथी सुरक्षित है। ट्रेकरों के फंसे होने की सूचना पर रविवार रात को ही प्रशासन ने रेस्क्यू टीमों को घटनास्थल के लिए रवाना कर दिया था। सोमवार को टीम ने 12 किमी की पैदल दूरी तय कर सहायक अभियंता का शव अगोड़ा पहुंचाया।

 

रविवार को लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड में सहायक अभियंता के पद पर तैनात वीरेंद्र चौहान अपने साथी कांति नौटियाल के साथ अगोड़ा गांव से डोडीताल की ट्रेकिंग पर निकले थे। अगोड़ा गांव से करीब 12 किमी की ट्रेकिंग के बाद वीरेंद्र की तबीयत बिगड़ गई और वह अचेत होकर जमीन पर गिर पड़े। यह देखकर कांति नौटियाल घबरा गए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- अब ज्यादा बिजली खर्च करने पर लगेगा जोरदार झटका, उर्जा निगम की ये तैयारी

 

उन्होंने सूचना फोन कर परिचितों को दी। जिन्होंने बाद में जिला आपदा प्रबंधन और पुलिस प्रशासन को यह जानकारी दी। आपातकालीन एसओएस कॉल आने पर डीएम डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट ने रात में ही एसडीआरएफ, वन विभाग व पुलिस विभाग की टीमों को तुरंत मौके पर जाने के निर्देश दिए। मेडिकल टीम को भी जरूरी दवाओं के तैनात रहने के निर्देश दिए गए।

यह भी पढ़ें 👉  जाने आज का दैनिक राशिफल, क्या कहते है आज आपके सितारे

 

बाद में एसडीआरएफ के 19 जवानों के साथ ही चार पुलिसकर्मी, चार लोनिविकर्मी, चार स्वास्थ्य विभागकर्मी व 108 एंबुलेंस टीम सहित पांच लोगों को भी रेस्क्यू की जिम्मेदारी दी गई। यह टीम सोमवार तड़के घटनास्थल पर पहुंची।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- (अंकित हत्याकांड) पुलिस की पूछताछ में माही उर्फ डौली ने किये चौंकाने वाले खुलासे, बेहोशी में नही, बेहरमी से ली थी अंकित की जान, पढ़े पूरी खबर।

टीम ने वीरेंद्र के शव को 12 किमी की पैदल दूरी तय कर अगोड़ा गांव पहुंचाया। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया, वीरेंद्र चौहान हरि रेजिडेंसी, दून यूनिवर्सिटी रोड देहरादून के रहने वाले थे।