Uncategorized

किस भाषा का शब्द है ‘चाय’, हिंदी में क्या कहते है इसे, चाय के शौकीनों को भी नही पता होगा इसका जबाव…

चाय के शौकीनों की दुनिया भर में कमी नहीं है. इस पेय को लेकर कुछ लोगों की दीवानगी तो इतनी होती है कि वो दिन में कितने भी कप चाय पी सकते हैं और गिनते भी नहीं हैं. क्या आपने इस बात पर कभी गौर किया है कि भारत के शहरों से गांवों तक में मशहूर चाय आखिरकार किस भाषा से आया शब्द है?

एक प्याला चाय की ताज़गी का मुकाबला कोई भी ड्रिंक नहीं कर सकता. भारत में चाय को लाने का श्रेय भले ही अंग्रेज़ों को जाता हो, लेकिन भारतीयों की लाइफस्टाइल में ये इस तरह से रची-बसी है कि इसे कोई अलग कर ही नहीं करता।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग न्यूज़- केंद्र सरकार ने रक्षाबंधन पर दिया तोहफा, घरेलू गैस सिलेंडर में की 200 रुपये की कटौती, नई कीमतें 30 अगस्त से होगी लागू

हिंदी भाषा में बहुत से शब्द ऐसे हैं, जिनके बारे में हम ये नहीं जानते हैं कि वो दूसरी भाषाओं से लिए गए हैं. इनमें कुछ सामान और कुछ खाने-पीने की चीज़ें भी हैं, जिन्हें हम वैसा का वैसा इस्तेमाल करते हैं. ऐसा ही एक शब्द है -चाय, जिसकी उत्पत्ति के बारे में कम ही लोग जानते हैं।

ज्यादातर लोगों को लगता है कि चाय का आविष्कार भारत में ही हुआ है. हालांकि ऐसा बिल्कुल नहीं है. ‘चाय’ और ‘टी’ दो ही शब्द हैं, जो इस खास पेय को डिफाइन करते हैं. इन दोनों शब्द एक ही भाषा से आए हैं, जिन्हें दुनिया भर में इस पॉपुलर पेय के लिए इस्तेमाल किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  बाइक से ट्रिपलिंग कर रहे युवकों को ट्रैक्टर-ट्राली ने रौंदा, तीनों की हुई दर्दनाक मौत, नही लगाए थे हेलमेट

अब मुद्दा ये है कि ये असल में किस भाषा का शब्द है. ये मूल रूप में चीन में बोली जाने वाली मंडेरियन भाषा का शब्द है. इस चीन में “cha (茶)” कहते हैं. ये कोरिया और जापान में भी ऐसे ही कहा गया और जहां भी ये शब्द पहुंचा, उसे चाय ही कहा गया।

यह भी पढ़ें 👉  ड्यूटी कर घर वापस आ रही युवती से दुष्कर्म के प्रयास के आरोपी को कोतवाली लालकुआं पुलिस ने किया गिरफ्तार

चाय को पारसी में “Chaye” कहा जाता है, जो उर्दू में चाय बन गया. अरबी में इसे ‘Shay’, रूसी में “Chay”स्वाहिली भाषा में इसे ‘Chai’ कहते हैं. इसी तरह Tea को भी अलग-अलग भाषाओं में अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है।

दिलचस्प ये है कि अंग्रेज़ी का टी शब्द भी चीन से ही निकला. दरअसल चीन के एक इलाने में मिन नान भाषा बोली जाती है, जहां ‘茶’ का उच्चारण ‘te’होता है. यहां व्यापार के लिए आने वाले लोग इसे टी बोलने लगे और ये बाकी जगहों पर टी बोला गया।