उत्तराखण्डगढ़वाल,चारधाम यात्रा

चारधाम मंदिर परिसर में रील बनाई तो उपद्रव की धारा में होगा मुकदमा, DGP ने जारी कर दिए आदेश

  • चारधाम यात्रा के दौरान मंदिरों के 50 मीटर दायरे में रील बनाने पर प्रतिबंध को लेकर पुलिस विभाग ने जारी की एसओपी
  • धार्मिक मान्यताओं व धर्म का अपमान करने पर कठोर कार्रवाई
  • एलआइयू को इंटरनेट मीडिया की निगरानी की जिम्मेदारी

देहरादून न्यूज़- चारधाम मंदिर परिसरों के 50 मीटर के दायरे में वीडियोग्राफी व रील बनाने पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद शनिवार को पुलिस विभाग की ओर से मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की गई। इसमें स्पष्ट किया गया है कि यदि कोई व्यक्ति मंदिर परिसर में रील बनाता देखा गया तो उसके विरुद्ध उपद्रव की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा ओर साथ ही स्थानीय अभिसूचना इकाई को इंटरनेट मीडिया की निगरानी के निर्देश जारी किए गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखण्ड- यहाँ प्रशासन की बड़ी कार्यवाही, छात्रा पर जानलेवा हमला करने वाले के घर पर चला बुलडोजर

 

एसओपी के तहत मंदिर परिसरों में भीड़ हो जाने से श्रद्धालुओं को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही पुलिस प्रशासन को व्यवस्था बनाने में दिक्कत आ रही है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए 16 मई को मंदिर परिसरों के 50 मीटर के दायरे में वीडियोग्राफी एवं रील बनाने पर प्रतिबंध लगाए जाने के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा- तीन बच्‍चों की मां को भगाने वाला हेयर ड्रेसर को पुलिस ने किया गिरफ्तार, बदला महिला का धर्म, पढ़े पूरी खबर।

 

पुलिस महानिदेशक अभिनव कुमार ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति निर्देशों का उल्लंघन करता पाया जाता है तो उपद्रव करने वाला माना जाएगा। इसके अलावा कोई व्यक्ति जानबूझकर व दुर्भावना के चलते एक वर्ग की धार्मिक मान्यताओं या धर्म का अपमान करने के लिए निर्देशों का उल्लंघन करता है तो उसके विरुद्ध धार्मिक विश्वासों का अपमान करने का मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

 

उन्होंने कहा कि वीडियोग्राफी या रील की सामग्री ऐसी प्रकृति की पाई जाती है कि जिससे धर्म, जाति, भाषा, समुदाय या अन्य आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा मिलता है, तो गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यहाँ पत्नी ने खाया जहर, तो पति ने सदमे में आकर कर ली आत्महत्या

 

डीजीपी ने सभी जिला प्रभारियों को निर्देशित किया है कि नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि इंटरनेट मीडिया के माध्यम से किसी भी व्यक्ति को चारधाम यात्रा से जुड़े पवित्र तीर्थ स्थलों के बारे में भ्रामक व आहत करने वाली सूचना फैलाने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।