उत्तराखण्डकुमाऊं,गढ़वाल,

उत्तराखंड में थमा लोकसभा चुनाव का प्रचार, नैनीताल, अल्मोड़ा, टिहरी सहित 5 सीटों पर 55 प्रत्याशियों के बीच जंग

उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार आज बुधवार शाम पांच बजते ही थम गया है। इसी के साथ मतदान कर्मचारियों की रवानगी तेज हो गई है, दूसरे दिन 703 पोलिंग पार्टियां मतदान करने के लिए रवाना हुई। अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी विजय जोगदंडे ने बुधवार को प्रेस ब्रीफिंग में बताया कि शाम पांच बजे से उत्तराखंड में साइलेंट पीरियड शुरू हो गया है।

उन्होंने कहा कि इस दौरान एग्जिट पोल और ओपिनियन पोल पर रोक रहेगी। जोगदंडे ने बताया कि शुक्रवार 19 अप्रैल को होने वाले मतदान के लिए पोलिंग पार्टियां की रवानगी की तेज हो गई है। बुधवार को पौड़ी की 181, अल्मोड़ा की 136 और देहरादून की 122 पोलिंग पार्टियां सहित कुल 703 पोलिंग पार्टियां अपने गतव्य के लिए रवाना हुई।

इस तरह अब तक 715 पोलिंग पार्टियां रवाना हो चुकी है, शेष पोलिंग पार्टियां गुरुवार को रवाना होगी। उन्होंने बताया कि मतदान कराने के लिए सुरक्षा बलों के अतिरिक्त 55 हजार कर्मचारी तैनात किए गए हैं। चुनाव के मध्य नजर बुधवार शाम 5 बजे के बाद शुक्रवार शाम 6 बजे तक प्रदेश में शराब की सभी दुकानें भी बंद रहेगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ युवक का शव मिलने से फैली सनसनी, सिर बुरी तरह से कुचला, जांच में जुटी पुलिस

प्रदेश में 283 शेडो केंद्र- मुख्य निर्वाचन अधिकारी जोगदंडे ने बताया कि प्रदेश में 283 शेडो मतदान केंद्र हैं। यहां संचार सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण संचार की विशेष व्यवस्था की गई है। इसमें चार मतदान केंद्र ऐसे हैं जहां किसी भी तरह की संचार सुविधा नहीं है।

जबकि 7209 केंद्रों में वेबकास्टिंग के जरिए मतदान प्रक्रिया पर सीधी नजर रखी जाएगी। उन्होंने बताया कि जिन बीएलओ की ड्यूटी अपने मतदान केंद्र से बाहर लगी है, उनके लिए फार्म 12 ए मतदान की व्यवस्था है। शेष भी मतदान कर्मियों के लिए पोस्ट बैलेट का प्रबंध किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  इस मोबाईल एप से बनेंगे ट्रिप कार्ड निजी वाहनों के लिए उत्तराखंड परिवहन विभाग कर रहा है तैयारी

शिकायत में उत्तराखंड तीसरे स्थान पर- इधर मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉक्टर बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने बताया कि सी विजिल ऐप पर आचार संहिता उल्लंघन की 22 हजार से अधिक शिकायतें आई हैं। जिनका समयबद्ध तरीके से निर्धारण किया गया, उन्होंने बताया कि उत्तराखंड सी विजिल से शिकायत के मामले में देश में तीसरा स्थान पर रहा है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि इस बार चुनाव प्रचार पूरी तरह से शांतिपूर्वक रहा है। उन्होंने लोगों से अधिक से अधिक संख्या में मतदान की अपील की है।

पांच जिलों में 55 प्रत्याशियों के बीच जंग- उत्तराखंड की गढ़वाल, टिहरी, नैनीताल समिति पांच संसदीय सीटों में 55 प्रत्याशियों के बीच चुनावी जंग है। बीजेपी, कांग्रेस समेत निर्दलीय प्रत्याशियों में वोटो को लुभाने के लिए जमकर पसीना बहाया है। हरिद्वार संसदीय सीट पर सबसे ज्यादा 14 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है।

यह भी पढ़ें 👉  राजपुरा के वाहन स्वामियों की बैठक, जानिए क्या हुआ तय

धारा 144 लागू, शराब की दुकानें भी बंद– बुधवार शाम 5 बजे से धारा 144 लागू होगी। मतदान के दौरान शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए मंगलवार को पुलिस लाइन में सुरक्षा में लगी फोर्स की ब्रीफिंग की गई। इस दौरान सुरक्षा और संवेदनशील बूथों पर अर्द्धसैनिक बल तैनात करने की रणनीति बनाई गई। बुधवार शाम को 5 बजे शराब की दुकान भी बंद कर दी गई है।

संसदीय सीट– प्रत्याशी टिहरी- 11 गढ़वाल- 13 हरिद्वार- 14 नैनीताल- 10 अल्मोड़ा- 07 कुल- 55