उत्तराखण्डकुमाऊं,

नैनीताल- यहाँ नयना देवी मंदिर में अश्‍लील गाने पर रील बनाने वाली हल्द्वानी निवासी महिला ने मांगी माफी, जानिए नैनीताल पहुंचकर क्या बोली?

  • माफीनामा देने के बाद ट्रस्ट ने मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई वापस ली

नैनीताल न्यूज़- आस्था के प्रतीक नयना देवी शक्तिपीठ के प्रांगण में फिल्मी डांस कर वीडियो बनाकर श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत करने वाली महिला हल्द्वानी की निकली।

 

उसने गलती स्वीकार करने के साथ ही मंदिर ट्रस्ट को लिखित माफीनामा दिया है। जिसके बाद मंदिर ट्रस्ट ने महिला के विरुद्ध आपराधिक कार्रवाई का निर्णय फिलहाल स्थगित कर दिया है। अलबत्ता ट्रस्ट ने मंदिर परिसर में वीडियोग्राफी व रील बनाने पर पाबंदी को और कड़ा करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- (बड़ी खबर) दिनेशपुर में नकली शराब बनाने वाली फैक्टरी का एसटीएफ की संयुक्त टीम ने किया भंडाफोड़, तीन गिरफ्तार, खाली बोतलें हुईं बरामद

 

अश्लील डांस का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर खूब वायरल हुआ

शुक्रवार को हल्द्वानी निवासी महिला अपनी महिला साथी के साथ मंदिर ट्रस्ट कार्यालय पहुंची। मंदिर प्रांगण में महिला का फिल्मी गीत पर अश्लील डांस का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। जिसके बाद ट्रस्ट ने रील बनाने, वीडियो बनाने तथा भड़काऊ कपड़े पहनकर मंदिर आने वालों पर पाबंदी लगा दी थी।

 

महिला के बारे में इंटरनेट मीडिया के माध्यम से जानकारी जुटाई गई तो उसके हल्द्वानी निवासी होने का पता लगा। महिला के विरुद्ध रात में प्राथमिकी तैयार कर दी गई और साथ ही उसको इसके बारे में बताया गया तो वह शुक्रवार को खुद ही पहुंच गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ दो बाघों से भीड़ गया कुदाल लेकर अकेला बुजुर्ग, डटकर किया मुकाबला, ऐसे बचाई अपनी जान।

 

मंदिर ट्रस्ट कार्यालय में ट्रस्ट अध्यक्ष राजीव लोचन साह, प्रशासनिक अधिकारी सुरेश मेलकानी के समक्ष उसने अपनी गलती स्वीकार करते हुए लिखित माफीनामा दिया। महिला ने कहा कि उसने श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत की हैं, इसका उसे पछतावा है। उसके पति सहित अन्य स्वजनों ने भी उसे खूब डांठ लगाई। बोली वह मां की भक्त है, लेकिन उससे ना माफ करने वाली गलती हुई है, वह इसका पश्चाताप करेगी।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) नव वर्ष के दृष्टिगत को देखते हुए धामी सरकार का बड़ा फैसला रेस्टोरेंट, होटल, चाय व खाने पीने की दुकानों को लेकर बड़ा फैसला देखिए आदेश

 

खुद को समाजसेवी बताते हुए कहा कि वह भविष्य में इस तरह की हरकत कोई ना करे, इसको लेकर महिलाओं-बेटियों को जागरूक करेगी। महिला के माफीनामा के बाद ट्रस्ट ने उस पर मुकदमा दर्ज करने की कार्यवाही वापस ले ली। ट्रस्ट अध्यक्ष राजीव लोचन साह ने कहा कि महिला को माफ कर दिया गया है।

 

अलबत्ता साफ किया है कि मंदिर परिसर में रील बनाने, वीडियोग्राफी करने पर पाबंदी को और सख्त बनाया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्य पुजारी बसंत बल्लभ पाण्डे, बसंत जोशी आदि मौजूद रहे।