उत्तराखण्डकुमाऊं,

फुटपाथ पर बिक रहे पहाड़ी काफल के आगे फलों का राजा ‘आम’, काफल बिक रहा 350-400 रुपये किलो तक

  • 60 से 80 रुपये किलो है आम का भाव

हल्द्वानी न्यूज़- बेडू पाको बारा मासा, नरैणा काफल पाको चैता मेरी छैला…। यह कुमाऊंनी गीत और काफल हर कुमाऊंनी व्यक्ति की चाहत है। काफल को आज तक सरकार बाजार उपलब्ध नहीं करा पाई है। यह आज भी पगडंडियों या फिर बाजार में फुटपाथ पर ही बिक रहा है। इसके बावजूद काफल ने फलों के राजा आम को ढेर कर दिया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- (दुःखद खबर) यहाँ 41सवारियों से भरी रोडवेज बस खाई में गिरी, मासूम समेत कंडक्टर की मौत।

 

बाजार में इस समय मौसमी फल छाए हुए हैं, मगर बात चाहे स्वाद व पसंद की हो या फिर कीमत की, पर्वतीय क्षेत्र से आने वाले काफल, आड़ू, पुलम, खुबानी आदि फल अन्य फलों पर हावी हैं। काफल की कीमत ने तो सभी फलों को पीछे छोड़ दिया है। काफल आम से पांच गुना ज्यादा कीमत पर बिक रहा है। काफल से महंगा बाजार में कोई फल नहीं है। इसकी डिमांड भी सबसे ज्यादा है।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) UKSSSC: समूह ग की तीन भर्तियों को दोबारा नए सिरे से कराने के लिए परीक्षा कैलेंडर हुआ जारी,

 

आम जहां 60 से 80 रुपये किलो तक बिक रहा है, तो वहीं काफल 400 रुपये किलो तक बिक रहा है। आड़ू, पुलम, खुमानी के रेट भी 100 रुपये से नीचे नहीं हैं। काफल हल्द्वानी मंडी में नहीं आता। यह फुटपाथों पर ही बिकता है। महिला अस्पताल के सामने फुटपाथ काफल बेचने वाले बृजेश बिहार के रहने वाले हैं।

 

उनका कहना है कि एक दिन में करीब 10 किलो तक बिक जाता है। पहाड़ से खरीदकर वह काफल बेचने आते हैं। जंगल से कई काफल के पेड़ जल भी चुके हैं। अल्मोड़ा के लमगड़ा से वह काफल ला रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः 6 घंटे के बाद आखिरकार खत्म हुआ हाई वोल्टेज ड्रामा MBPG छात्रसंघ अध्यक्ष रश्मि लमगड़िया छत से उतरी

 

बाजार में बिक रहे मौसमी फल के रेट फल प्रति किग्रा

  • काफल 350-400
  • आडू 80-100
  • खुबानी 120-150
  • पुलम 100-150
  • आम 60-70
  • सेब 180-200
  • तरबूज – 15 -20
  • खरबूजा 20 – 30