उत्तराखण्डगढ़वाल,

उत्तराखंड- यहाँ आर्मी इंटेलीजेंस ने रुड़की से दबोचा एक फर्जी सैन्यकर्मी, यहाँ देता था सेना की ट्रेनिंग

यहाँ आर्मी इंटेलीजेंस ने रुड़की से एक फर्जी सैन्यकर्मी को पकड़ा है। सेना ने आरोपी को पुलिस के हवाले कर दिया है। पुलिस ने आरोपी से सेना की वर्दी समेत अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं। साथ ही आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

पुलिस के अनुसार, रुड़की के आर्मी इंटेलीजेंस ने बुधवार शाम एक युवक को एमएच तिराहे से पकड़ लिया। सेना को शिकायत मिली थी कि आरोपी खुद को सैन्यकर्मी बताकर इंस्टाग्राम पर फोटो और वीडियो अपलोड कर रहा है। साथ ही उसने अपने परिजनों और दोस्तों को भी यह बता रखी थी कि वह सेना में भर्ती हो गया है। उसकी वर्तमान तैनाती रुड़की में है। सेना की टीम आरोपी को पकड़कर सिविल लाइंस कोतवाली पहुंची।

यह भी पढ़ें 👉  लोकसभा चुनाव 2024- हरिद्वार और नैनीताल संसदीय सीट पर कांग्रेस का मंथन जारी, हरिद्वार सीट से हरीश और वीरेंद्र रावत में से किसे मिलेगा टिकट?

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह आठ महीने से रुड़की के गणेशपुर में किराए पर कमरा लेकर रह रहा था। पुलिस ने उसके कमरे से सेना की वर्दी समेत अन्य दस्तावेज भी बरामद किए हैं। साथ ही उसके मोबाइल काे कब्जे में लेकर जांच की। इसमें पता चला कि इंस्टाग्राम पर उसने अपनी कई वीडियो और फोटो सेना की वर्दी में अपलोड कर रखी हैं। पुलिस आरोपी के मोबाइल नंबरों की भी बारीकी से जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल के वीरभट्टी में अवैध मदरसे को लेकर सीएम धामी ने लिया संज्ञान, दिए प्रदेश के सभी मदरसों की जांच के आदेश

कोतवाली प्रभारी आरके सकलानी ने बताया कि मनमोहन यादव (22) निवासी गांव देहना थाना अल्लाहगंज जिला शाहजहांपुर यूपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। युवक से गहनता से पूछताछ की जा रही है। उसके संपर्क में कौन-कौन थे, इसकी भी जानकारी जुटाई जा रही है। वहीं, स्थानीय एलआईयू की टीम ने भी आरोपी युवक से पूछताछ की।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- यहाँ मंदिर में जल चढ़ाने गई किशोरी से पुजारी ने की छेड़छाड़, गाल पर भी काटा, लोगों ने की धुनाई, हुआ गिरफ्तार।

गांव में देता था सेना की ट्रेनिंग
पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने गांव के युवाओं को भी सेना में भर्ती होना बता रखा था। वह रुड़की से जब घर जाता तो युवाओं को सेना की ट्रेनिंग देता था। बताया जा रहा है कि युवा मनमोहन से बहुत प्रेरित थे और उससे ट्रेनिंग लेने के लिए बड़ी संख्या में आते थे।