उत्तराखण्डकुमाऊं,गढ़वाल,

उत्तराखंड- ‘पिरुल लाओ, पैसे पाओ’, जंगल की आग पर काबू पाने के लिए सीएम धामी ने चलाया अभियान, ग्रामीणों की हो रही बढ़िया आमदनी, इतने रुपये में खरीद रही सरकार

गत दिनों वर्षा से जंगलों में लगी आग पर काबू होने के बाद फिर से आग की घटनाएं सामने आने लगी हैं। लगातार सामने आ रही घटनाओं से प्रशासन से लेकर आम जनता तक परेशान है। एनडीआरएफ व वन विभाग की टीम आग पर काबू पाने में जुटी हुईं हैं।

 

सीएम धामी भी जंगल की आग पर काबू पाने के लिए समय-समय पर सख्त निर्देश जारी कर रहे हैं। सीएम ने आग पर काबू पाने के लिए आमजन के साथ मिलकर एक अभियान भी चलाया है। सीएम के इस अभियान से वनाग्नि की घटनाएं काफी कम हो गई हैं साथ ही वन क्षेत्र के पास रहने वाले ग्रामीणों की आमदनी भी हो रही है।

यह भी पढ़ें 👉  लालकुआं (बड़ी खबर) यहाँ सड़क हादसे में युवक की दर्दनाक मौत, परिवार में मचा कोहराम

 

सीएम धामी ने एक्स पर लिखा, ‘जंगलों में आग लगने की घटनाओं का एक प्रमुख कारण पिरुल होता है। जिसके निस्तारण के लिए हम आमजन के साथ मिलकर अभियान चला रहे हैं। ‘पिरुल लाओ, पैसे पाओ’ अभियान के तहत बड़ी संख्या में लोग पिरुल को इकट्ठा कर ₹ 50/किलो की दर से सरकार को बेच रहे हैं। जिसका व्यापक असर भी देखने को मिल रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- (अच्छी खबर) इस विभाग में 4500 पदों पर भर्ती को मिली मंजूरी

 

इस अभियान से वर्तमान में वनाग्नि की घटनाएं काफी कम हो गई हैं साथ ही वन क्षेत्र के पास रहने वाले ग्रामीणों की आमदनी भी हो रही है।’

 

मंगलवार को तमलाग गांव से सटे जंगलों में सुलगती आग से गुमांई व गंगोटी वन क्षेत्र भी कुछ हद तक प्रभावित हुआ। जंगल में लगी आग को बुझान के लिए एनडीआरएफ व वन विभाग की टीम जुटी रही।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यहां जंगल में पेड़ से लटका मिला युवक का शव, पुलिस शिनाख्त में जुटी।

 

डीएफओ स्वप्निल अनिरुद्ध ने बताया कि अदवाणी नार्थ व साऊथ क्षेत्र में बीती देर सायं को सेटेलाइट डेटा के आधार पर आग की घटना की सूचना मिली। आग तमलाग के जंगलों में फैल गई तथा सिविल वन क्षेत्र से होते हुए आग बेकाबू होकर रिजर्व फारेस्ट की ओर बढ़ गई, जिससे कि गुमांई व गंगोटी के जंगल भी प्रभावित हो गए।