उत्तराखण्डगढ़वाल,

उत्तराखंड- ऐसा क्या हुआ कि जब AIIMS Rishikesh की छठवीं मंजिल के वार्ड में पहुंची पुलिस की गाड़ी, हक्के-बक्के रह गए मरीज, पढ़ें पूरी खबर

  • महिला डाक्टर की ओर से नर्सिंग अधिकारी पर लगाए आरोप के बाद हंगामा होने पर हरकत में आई पुलिस।                                   
  • आरोपित को पकड़ने के लिए एम्स की छठी मंजिल के वार्ड में पहुंची पुलिस की गाड़ी

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में महिला चिकित्सक से छेड़छाड़ के आरोपित नर्सिंग अधिकारी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की गाड़ी छठवें फ्लोर में बने वार्ड में पहुंच गई। इससे मरीज हक्के-बक्के रह गए। पुलिस और सुरक्षा कर्मियों ने गाड़ी के लिए रास्ता बनाया। घटना मंगलवार की है, जिसका वीडियो बुधवार को इंटरनेट मीडिया पर खूब प्रसारित होता रहा।

यह भी पढ़ें 👉  केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री व नैनीताल उधम सिंह नगर सांसद श्री अजय भट्ट ने भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष पूरन चंद्र शर्मा के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया

 

एम्स की एक महिला डाक्टर ने सर्जरी विभाग के आपरेशन थिएटर में तैनात नर्सिंग अधिकारी सतीश कुमार पर छेड़खानी का आरोप लगाया है। पुलिस ने मंगलवार को मुकदमा तो दर्ज कर लिया, लेकिन आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हुई थी। गुस्साए चिकित्सकों ने कार्य वहिष्कार कर दिया। वे नर्सिंग अधिकारी की गिरफ्तारी पर अड़े थे।

 

चिकित्सकों के गुस्से को देखते हुए पुलिस एम्स पहुंची, मगर वहां माहौल काफी गर्म था। पुलिस को पता चला कि आरोपित की ड्यूटी छठी मंजिल स्थित वार्ड में है। पुलिस आरोपित को पकड़ने के लिए वाहन समेत छठी मंजिल स्थित वार्ड में पहुंच गई। वाहन को छठी मंजिल तक रैंप से ले जाया गया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी – लालकुआं विधानसभा क्षेत्र के भाजपा मंडल मंत्री की कार गिरी खाई में, हुई दर्दनाक मौत, क्षेत्र में शोक की लहर

 

वहां भर्ती मरीज कुछ समझ पाते, तब तक सुरक्षाकर्मी भी पहुंच गए। उन्होंने और पुलिसकर्मियों ने गाड़ी के लिए रास्ता बनाया। कुछ मरीजों के बेड को भी इधर-उधर किया गया। आरोपित को पकड़ने के बाद पुलिस उसे वाहन में बैठाकर इमरजेंसी के रास्ते बाहर आ गई।

 

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में महिला चिकित्सक से छेड़खानी मामले में उत्तराखंड राज्य महिला आयोग ने सख्ती दिखाई है। घटना में शामिल अन्य आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई को लेकर आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने छह बिंदुओं पर जिलाधिकारी को पत्र लिखा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ निर्माणाधीन दीवार पर काम करते हुए हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से मजदूर घायल, पढ़े पूरी खबर।

 

कंडवाल ने बताया कि मामले में अन्य अधिकारी, कर्मचारियों की भूमिका भी सामने आ रही है। इस बाबत नर्सिंग अधिकारी सतीश कुमार को बर्खास्त करने, साक्ष्यों से छेड़‌छाड़ करने के आरोप में एएनएस सनोज पी को बर्खास्त करने, आपरेशन थिएटर के ड्यूटी रजिस्टर में गड़बड़ी पाए जाने पर जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।