उत्तराखण्डकुमाऊं,गढ़वाल,

उत्तराखंड- पेशन को लेकर खत्म हुई टेंशन, अब हर माह खाते में आएगी पेंशन, सीएम धामी ने किया ये बड़ा एलान

देहरादून न्यूज़- प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वन क्लिक व्यवस्था के अंतर्गत 8,36,603 लाभार्थियों को 125 करोड़ की राशि सीधे उनके खातों में हस्तांतरित की। उन्होंने कहा कि पेंशन का भुगतान तीन माह के स्थान पर अब प्रत्येक माह होगा।

मुख्यमंत्री धामी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में समाज कल्याण विभाग के अंतर्गत वृद्धावस्था, विधवा व दिव्यांग पेंशन का डीबीटी के माध्यम से हस्तांतरण किया।

वन क्लिक माध्यम से फरवरी माह, 2024 की पेंशन के रूप में वृद्धावस्था पेंशन के 333180 लाभार्थियों को 79.97 करोड़, विधवा पेंशन के 2,12,030 लाभार्थियों को 31.80 करोड़ की राशि दी गई। दिव्यांग पेंशन के 91,393 लाभार्थियों को 13.70 करोड़ की राशि भेजी गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड की धरती फिर डोली, घर से बाहर निकले लोग, भूकंप की तीव्रता 3.1मापी गई

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने पेंशन योजनाओं को सरल बनाने का कार्य किया है। साथ ही पहले मिलने वाली धनराशि को 1200 से बढ़ाकर 1500 रुपये किया गया है। बुजुर्ग दंपतियों को पेंशन देने से अधिक लोग लाभान्वित हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- (अंकित हत्याकांड) पुलिस की पूछताछ में माही उर्फ डौली ने किये चौंकाने वाले खुलासे, बेहोशी में नही, बेहरमी से ली थी अंकित की जान, पढ़े पूरी खबर।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि पहले पेंशन का भुगतान तीन-तीन माह के अंतराल पर होता था। अब प्रत्येक माह पेंशन सीधे लाभार्थियों के खाते में आएगी। इस योजना का वास्तविक उद्देश्य पूरा हो सकेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार दिव्यांगजनों को पेंशन देने के साथ ही मुख्यधारा से जोड़ने, रोजगार देने व उनकी उन्नति के लिए निरंतर कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं का संचालन किया जा रहा है।

सीएम धामी ने कहा कि अप्रैल, 2023 से ही पेंशन योजना के समस्त आवेदन ऑनलाइन किए जाने की व्यवस्था की गई है। इससे पेंशन स्वीकृति में पारदर्शिता आई है। आवेदकों को अपने आवेदन की स्थिति जाने का अवसर मिल रहा है। सरकार सभी पात्र लाभार्थियों को समय पर लाभान्वित करने के लिए तत्पर है। समय-समय पर पेंशन वितरण व्यवस्था सुदृढ़ करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। उनका हर पल राज्य के विकास एवं राज्यवासियों को समर्पित है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल- "ले मशाले चल पड़े हैं लोग मेरे गांव के" जन गीत के साथ क्षेत्र में निकला मशाल जुलूस, जाने पूरा मामला