उत्तराखण्डकुमाऊं,

हल्द्वानी- यहाँ लावारिस पशु बन रहे है काल, लावारिस पशुओं से आये दिन हो रहे है सड़क हादसे, फिर भी कुंडली मारकर बैठे अधिकारी

  • 04 माह में अब तक सड़कों और मोहल्ले से 650 गोवंश पकड़ने के बावजूद हर दिन उतने ही साथ और अन्य गोवंश दिख रहे हैं।
  • 67 एकड़ में नगर निगम हल्दूचौड़ के गंगापुर कबड़वाल गांव में 4000 से ज्यादा गोवंश रखने की क्षमता वाली गौशाला बना रहा है।

हल्द्वानी शहर और उससे लगे ग्रामीण क्षेत्र में लावारिस पशु जी का जंजाल बन चुके हैं। आये दिन सड़क हादसे हो रहे हैं। भले ही डीएम ने सड़क पर पालतू जानवर छोड़ने पर मुकदमा दर्ज करने की चेतावनी दी है, मगर सवाल यह है कि ऐसा करने वालों को पकड़ेगा कौन? वह भी उस हालत में जब नगर निगम अपनी ताकत गौशाला बनाने में झोंक हुए हैं। शुक्रवार की रात को सांड के हमले में हुई युवक की मौत ने बयानवीर अफसर की कार्य शैली पर फिर सवाल खड़े कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां नाबालिग बेटे को स्कूटी देना पिता को पड़ा भारी, पुलिस ने काटा चालान, पिता को चुकानी पड़ी मोटी रकम, पढ़े पूरी खबर।

चार महीने में 650 लावारिस गोवंश पकड़े

बीते साल दिसंबर में हाईकोर्ट के आदेश के बाद से नगर निगम कुछ समय के लिए सक्रिय हुआ था। दवा है कि चार माह में अब तक सड़कों और मोहल्लों से 650 गोवंश को पकड़ा जा चुका है। लेकिन हर दिन शहर में फिर उतने ही सांड और अन्य गोवंश सड़कों पर खड़े दिखाई दे रहे हैं। कहीं ना कहीं निगम की कार्यप्रणाली पर भी बड़ा सवाल है।

4000 गोवंश के लिए बना रही है गौशाला

नगर निगम फिलहाल हल्दूचौड़ के गंगापुर कबड़वाल गांव में 67 एकड़ में गौशाला बना रहा है। जिसमें करीब 4000 से अधिक गोवंश को रखने की क्षमता होगी। निगम की माने तो यह प्रदेश की पहली सरकारी गौशाला होगी। जबकि पांच अलग-अलग गौशालाओं में 185 लावारिस पशु रखे गए हैं, जबकि क्षमता 500 पशुओं की है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी – यहाँ सीएम पुष्कर सिंह धामी ने ईजा बैंणी महोत्सव में नैनीताल जिले के लिए 713 करोड़ की योजनाओं का किया शिलान्यास

यहाँ रोज दिख जाते है नए-नए झुंड-

रामपुर रोड- छठ पूजा स्थल के पास, देवलचौड़ चौराहा, मंडी बाईपास रोड, तीनताश, पंचायत घर चौराहा।

बरेली रोड- मंगलपड़ाव, शनि बाजार रोड पर मंडी के सामने, तल्ली हल्द्वानी, गोरापड़ाव।

नैनीताल रोड- कोतवाली के सामने, निगम कार्यालय के सामने, तिकोनिया चौराहा, कैनाल रोड, बियरशिबा स्कूल एवं जजी कोर्ट के पास।

ये भी स्पॉट- ऊंचापुल, कठघरिया, लामाचौड़ तिराहा, कमलुआगांजा तिराहा, जज फार्म, फतेहपुर, नबाबी रोड।

आखिर कौन खदेड़ दे रहा है ये मवेशी-

हल्द्वानी नगर निगम प्रशासन का कहना है कि हल्द्वानी शहर की करीब करीब सभी सीमाओं पर हर रोज नए-नए गोवंश पशु खड़े दिखाई दिए जाते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग गोवंश पशुओं का दुधारू उपयोग करने के बाद शहर की तरफ खड़े रहे हैं हालांकि नगर निगम ने अब तक ऐसा करने वाले किसी व्यक्ति को पकड़ नहीं पाया है ऐसे किसी मामले में कोई कार्यवाही नहीं हुई है वहीं ग्रामीणों का कहना है कि यह गोवंश नगर निगम अपने क्षेत्र से पड़कर ग्रामीण क्षेत्र की ओर के रहा है सवाल यह है कि आखिर कौन है जो ऐसा कर रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां हुआ दर्दनाक हादसा, टेम्पो ट्रैवलर और बाइक की भीषण टक्कर, दो पुलिसकर्मियों समेत तीन की मौत

15 लावारिस गोवंश को गौशाला पहुंचाया-

लालकुआँ- सांड के हमले में युवक की मौत के बाद समाजसेवियों ने लावारिस घूमते 15 पशुओं को श्री गौर राधाकृष्ण मंदिर गोदाम पहुंचाया। पूर्व राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त ग्राम प्रधान बीडी खोलिया के नेतृत्व में कई समाजसेवियों ने शनिवार को क्षेत्र में लावारिस पशुओं को पकड़ने का अभियान चलाया। इस दौरान लावारिस 15 पशुओं को पकड़ कर शाम को गोदाम पहुंचाया। उन्होंने आश्रम के प्रबंधक स्वामी रामेश्वर दास का आभार जताया। इस दौरान वहाँ मौजूद मोहन दुर्गापाल, दीवान पवार, रोहित दुम्का, बसंत पांडे, मनोज दुम्का, उमाशंकर दुम्का आदि शामिल रहे। पशुओं को रखने पर उनका आभार व्यक्त किया।