उत्तराखण्डकुमाऊं,

हल्द्वानी- बनभूलपुरा के कई बड़े नेता पुलिस के रडार पर, भीड़ को उकसाने में थे शामिल, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

हल्द्वानी न्यूज़- बनभूलपुरा क्षेत्र में उपद्रव में वहीं के कई राजनीतिक दल के नेताओं का हाथ भी सामने आ रहा है। हिंसा मामले में पुलिस को कई साक्ष्य मिले हैं। अब पुलिस इन नेताओं की सीडीआर की जांच भी कर रही है। जल्द ही इस मामले में बड़ी गिरफ्तारी हो सकती है।

पुलिस-प्रशासन का आरोप है कि उपद्रव के दिन जनप्रतिनिधियों, धर्मगुरुओं और क्षेत्र के संभ्रांत लोगों ने जनता से अपील नहीं की। इस कारण उपद्रव और बढ़ गया। उधर पुलिस लगातार, सीसीटीवी, घटना के वीडियो और ऑडियो से उपद्रवियों को चिह्नित कर रही है। रोज संदिग्ध लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया जा रहा है। पुलिस को जांच में कई ऐसे साक्ष्य मिले हैं जिसमें वहां के कई राजनीतिक दल के नेता और जनप्रतिनिधियों का नाम आ रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  यहाँ शिकार का पीछा करते हुए सरकारी अस्पताल में घुस आया गुलदार

बनभूलपुरा कांड की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए तथ्य सामने आ रहे हैं। उपद्रवियों को जेल भेजा जा रहा है। धरपकड़ जारी है। हल्द्वानी से बरेली और दिल्ली से हरियाणा तक मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक समेत नौ नामजद आरोपितों की तलाश है। इस घटना की जांच की आंच अब राजनीतिक गलियारों तक पहुंच चुकी है।

पुलिस ने बनभूलपुरा में रहने वाले सफेदपोश नेताओं की भूमिका को लेकर भी तफ्तीश शुरू कर दी है। आठ फरवरी को मलिक के बगीचे में अतिक्रमण हटाने गई नगर निगम, पुलिस व प्रशासन की टीम पर उपद्रवियों ने पथराव किया था। वाहनों को आग लगाकर फूंक दिया था। बनभूलपुरा थाने को पेट्रोल बम से फूंका। वैध व अवैध असलहों से फायरिंग की। गोली लगने से अब तक छह की मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ भाई ने पहले सगी बहन को मार डाला, फिर खुद भी पंखे से लटकर दी जान, किराये के कमरे में मिला दोनों भाई-बहन का शव

दावा है कि यह हिंसा सुनियोजित था। जिस तरीके से पत्थर बरसे। इससे साफ है कि पहले से छतों पर पत्थर व ईंट रखे थे। इतनी बड़ी प्लानिंग के पीछे एक व्यक्ति का हाथ नहीं हो सकता है। न ही यह घटना क्षणिक आवेश की है।

बनभूलपुरा के अलावा बाहरी मुस्लिम समुदाय के नेताओं की भूमिका भी संदिग्ध है। उत्तर प्रदेश के कई जिलों के मुस्लिम नेता बनभूलपुरा मामले में अभी भी प्रतिक्रिया दे रहे हैं और कई तरह के आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। पुलिस ऐसे नेताओं के विरुद्ध भी कार्रवाई की तैयारी कर रही है। इंटरनेट मीडिया सेल निगरानी कर रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- यहाँ एक महिला और शिशु का क्षत-विक्षत शव मिलने से मचा हड़कंप

मुस्लिम समुदाय के कई नेताओं की पुलिस और प्रशासन में अच्छी पकड़ है। ये अक्सर अधिकारियों को अपना बताते थे और छोटे-छोटे मामले होने पर सीधे अधिकारियों को फोन घुमा देते थे।

जिस दिन बनभूलपुरा कांड हुआ उस दिन इन नेताओं के या तो मोबाइल बंद थे या फिर इन्होंने फोन नहीं उठाए। न ही इन्होंने पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों से संपर्क किया। अगर ये चाहते तो अपने लोगों को समझा सकते थे। इन नेताओं पर सूचनाएं लीक करने का भी आरोप है। जैसे अतिक्रमण की कार्रवाई से पहले सूचना प्रसारित कर देना आदि।