Uncategorizedअंतरराष्ट्रीय

रोहित शर्मा की कप्‍तानी में टी20 वर्ल्‍ड कप चैंपियन बना भारत, 17 साल का खिताबी सूखा समाप्‍त, फाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराया

  • IND vs SA: भारत ने जीता टीै20 वर्ल्ड कप-2024
  • IND vs SA: साउथ अफ्रीका को 7 रनों से हराया।
  • IND vs SA: भारत दूसरी बार बना चैंपियन

नई दिल्ली। जिस चमचमाती ट्रॉफी का इंतजार पूरा हिन्दुस्तान सालों से कर रहा था वो भारत के हिस्से आ चुकी है। भारत ने शनिवार को केनसिंग्टन ओवल में खेले गए टी20 वर्ल्ड कप-2024 के फाइनल में साउथ अफ्रीका को सात रनों से हरा खिताब अपने नाम कर लिया। फाइनल मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी की और सात विकेट खोकर 176 रन बनाए। अपना पहला फाइनल मैच खेल रही साउथ अफ्रीका की टीम ने काफी लड़ाई लड़ी लेकिन ये टीम 20 ओवरों में 169 रन ही बना सकी और खिताब से महरूम रह गई।

 

 

भारत दूसरी बार टी20 वर्ल्ड कप का चैंपियन बना है। भारत ने पहली बार साल 2007 में ये ट्रॉफी जीती थी। इसी के साथ भारत तीसरी टीम बन गई है जिसने टी20 का खिताब दूसरी बार जीता है। उससे पहले इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के काम कर चुके हैं। भारत ने साल 2013 से चले आ रहे आईसीसी ट्रॉफी के सूखे और 17 साल से चले आ रहे टी20 वर्ल्ड कप के सूखे को खत्म कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  जब तक रेट नहीं तब तक गेट नहीं की मांग को लेकर धरना 53 वे दिन जारी

 

 

177 रनों के टारगेट का पीछा करने उतरी साउथ अफ्रीका टीम को भारत ने अच्छी शुरुआत नहीं करने दी। दूसरे ओवर की तीसरी गेंद पर जसप्रीत बुमराह ने रीजा हैंड्रिक्स को बोल्ड कर दिया। तीसरे ओवर में अर्शदीप ने साउथ अफ्रीकी कप्तान एडेन मार्करम को ऋषभ पंत के हाथों कैच कराया। वह चार रन बनाकर आउट हो गए। इस बीच क्विंटन डीकॉक ने विकेट पर पैर जमा लिए थे। ट्रिस्टन स्टब्स ने उनका साथ दिया। स्टब्स ने हालांकि अपनी ही गलती से विकेट खो दिया। वह अक्षर पटेल की गेंद पर ऑफ स्टंप के बाहर जाकर मारना चाहते थे लेकिन चूक गए और बोल्ड हो गए। स्टब्स ने 31 रन बनाए।

 

स्टब्स के जाने का डीकॉक पर असर नहीं पड़ा और वह तूफानी अंदाज में रन बनाते रहे। हेनरिक क्लासेन ने अपने चिर-परिचित अंदाज में लंबे शॉट्स लगाने शुरू किए। डीकॉक खतरनाक होते दिख रहे थे। दोनों बल्लेबाज स्पिनरों को अच्छे से खेल रहे थे, इसलिए रोहित ने अर्शदीप सिंह को वापस बुलाया। रोहित का ये दांव चल गया है और 13वें ओवर की तीसरी गेंद पर डीकॉक डीप स्क्वायर लेग पर कुलदीप यादव को कैच दे बैठे। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 31 गेंदों पर चार चौके और एक छक्के की मदद से 39 रन बना।

यह भी पढ़ें 👉  यहाँ शराब के लिए पैसे ना देने पर बाप ने कुल्हाड़ी से काटी अपने बेटे की गर्दन, मौके से पिता हुआ फरार, सुबह लाश देख बिलख पड़ा परिवार

 

अक्षर पटेल द्वारा फेंके गए 15वें ओवर में क्लासेन ने 24 रन बटोरे और यहां से मैच भारत की झोली से बाहर जाता दिख रहा था। 16वें ओवर में रोहित ने बुमराह को वापस बुलाया। बुमराह ने सिर्फ चार रन दिए और भारत को मैच में वापसी के रास्ते पर ला दिया। हार्दिक पांड्या ने क्लासेन को 17वें ओवर की पहली गेंद पर आउट कर मैच भारत की तरफ कर दिया।

 

 

सूर्यकुमार का कैच

डेविड मिलर अभी बचे थे और भारत के लिए खतरा थे लेकिन बल्ले से फेल होने वाले सूर्यकुमार यादव ने आखिरी ओवर की पहली गेंद पर मिलर का हैरतअंगेज कैच लपकते हुए मैच में भारत की जीत लगभग पक्की कर दी हार्दिक पांड्या ने आखिरी ओवर में बाकी रन बचा लिए और भारत को जीत दिलाई।

 

 

कोहली की दमदार पारी

टीम इंडिया की इस जीत का हीरो वो खिलाड़ी रहा जिसका बल्ला फाइनल से पहले पूरी तरह से शांत था। उनको टीम से बाहर करने की बातें भी हो रही थीं, लेकिन विराट कोहली क्यों महान हैं उन्होंने इस मैच में बताया। फाइनल में कोहली ने 76 रनों की पारी खेली। उनकी ये पारी दबाव में आई। रोहित शर्मा (9) दूसरे ओवर में आउट गए। ऋषभ पंत खाता तक नहीं खोल पाए। यहां से कोहली ने जिम्मदेारी भरी पारी खेली। उन्होंने अक्षर पटेल के साथ मिलकर 72 रनों की साझेदारी की।

यह भी पढ़ें 👉  पद्मभूषण पुरस्कार से नवाजे गए एबीजी ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिरला, सेंचुरी के सीईओ विजय कॉल सहित अधिकारी कर्मचारियों ने दी बधाई

 

अक्षर पटेल अपना अर्धशतक पूरा नहीं कर सके। उन्होंने 31 गेंदों पर 47 रन बनाए। अपनी पारी में अक्षर ने चार छक्के और एक चौका मारा।

 

 

दुबे ने दिया साथ

कोहली ने फिर शिवम दुबे के साथ मिलकर 57 रन जोड़े। 19वें ओवर की पांचवीं गेंद पर कोहली आउट हो गए। अपनी पारी में इस बल्लेबाज ने 59 गेंदों का सामना करते हुए छह चौके और दो छक्के मारे। दुबे आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर आउट हो गए। उन्होंने 16 गेंदों पर 27 रन बनाए। दुबे की पारी में तीन चौके और एक छक्का शामिल रहा। हार्दिक पांड्या दो गेंदों पर नाबाद पांच रन बनाए। रवींद्र जडेजा दो रन बनाकर आउट हो गए।

 

साउथ अफ्रीका की तरफ से महाराज और एनरिक नॉर्खिया ने दो-दो विकेट लिए। मार्को यानसेन और कागिसो रबाडा ने एक-एक विकेट लिए।