उत्तराखण्डकुमाऊं,

बिन्दुखत्ता निवासी युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत, परिवार में मचा कोहराम

लालकुआं न्यूज़- लालकुआँ के निकटवर्ती क्षेत्र घोड़ानाला बिन्दुखत्ता निवासी होटल मैनेजमेंट के छात्र की जहरीले पदार्थ के सेवन करने के चलते दर्दनाक मौत हो गयी। मृतक युवक के परिजनों ने 108 सेवा के कर्मचारियों पर नशे में धुत्त रहते हुए गंभीर हालत में युवक को देर से अस्पताल पहुंचाने का आरोप लगाया है।

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार यहां पश्चिमी राजीव नगर घोड़ानाला बिन्दुखत्ता निवासी जगदीश बहुगुणा के 24 वर्षीय पुत्र गौतम बहुगुणा जोकि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत हल्द्वानी कटघरिया में होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई कर रहा था। गत दोपहर सीने में तेज दर्द की शिकायत के दौरान परिजनों ने 108 सेवा एवं 112 सेवा दोनों में कॉल की, जब दोनों ही मौके पर तत्काल नहीं पहुंची, तो परिजन गौतम को टुकटुक द्वारा लालकुआं को ला रहे थे, कि तभी 112 सेवा पहुंच गई, तथा ट्रांसपोर्ट नगर क्षेत्र से गंभीर हालत में युवक को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लालकुआं पहुंचाया गया। जहां चिकित्साधिकारी डॉ0 लव पांडे ने गौतम का उपचार शुरू किया तो उसकी हालत और गंभीर होती चली गई।

यह भी पढ़ें 👉  पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी की जयंती पर राज्य में एक दिवसीय अवकाश घोषित हो- दुर्गापाल

 

वही डॉ0 लव पांडे का कहना था कि उसका लगातार ब्लड प्रेशर और ऑक्सीजन लेवल गिर रहा था, जिसके चलते उन्होंने तत्काल उसे हल्द्वानी ले जाने की सलाह परिजनों को दी,ल। परंतु 108 सेवा कोतवाली के सामने खड़े होने के बावजूद मरीज को लेने नहीं आई, बाद में कोतवाली के पुलिसकर्मी 108 वालों के पास गए और लालकुआं अस्पताल से गंभीर गौतम को लेकर सुशीला तिवारी चिकित्सालय ले जाने को कहा, इसके बाद पहुंचे 108 वालों ने अत्यंत नाजुक हालत में गौतम को हल्द्वानी डॉ0 सुशीला तिवारी चिकित्सालय में पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  लालकुआं- यहां तेज रफ्तार डंपर ने ग्रामीणों को मारी टक्कर, ग्रामीण की हुई दर्दनाक मौत, परिजनों में मचा कोहराम।

 

वही मृतक गौतम बहुगुणा के पिता जगदीश बहुगुणा का कहना है कि उन्होंने 108 में अत्यधिक कॉल की, परंतु लालकुआं में मौजूद रहने के बावजूद 108 वाले उनके गंभीर बेटे को लेने नहीं पहुंचे, और जब वह 108 गाड़ी लेकर लालकुआं अस्पताल में आए तो दोनों ही कर्मचारी नशे की हालत में थे, जिसकी उन्होंने चिकित्सा कर्मियों से शिकायत भी की। वही जगदीश बहुगुणा का कहना है कि यदि समय पर 108 सेवा पहुंच जाती तो उनका बेटा बच सकता था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड - पुलिस- बदमाशों के बीच मुठभेड़, 11 साल से था वांटेड, सिपाही सहित तीन को लगी गोली, 4 गिरफ्तार

 

वही सूत्रों से पता चला है कि गौतम ने जहरीले पदार्थ का सेवन किया था वह कई दिन से अवसाद में चल रहा था। वह अपने पिता का लाडला बेटा था, दो बेटों में बड़ा होने के चलते गौतम परिवार वालों का सबसे प्यारा था, उसके असामयिक निधन से परिवार में कोहराम मचा हुआ है।