उत्तराखण्डकुमाऊं,

शादी घर पर करो या बैंकट हॉल पर, डीजे से लेकर बारात ले जाने तक कि लेनी होगी अनुमति, अचार संहिता के चलते यह नियम

नव संवत्सर शुरू होने के बाद अब लोकसभा चुनाव के साथ ही शादियों की धूम शुरू होने जा रही है। 14 अप्रैल से शुरू होने वाले लग्न के लिए लोग शादी की तैयारी में जुटे हैं, लेकिन चुनाव आचार संहिता होने के चलते अब शादी के लिए भी प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।

शादी घर में हो या फिर बैंकट हॉल में अनुमति वर-वधु दोनों पक्षों के लिए हरहाल में जरूरी है। क्योंकि चुनाव के चलते धारा 144 लागू है। चैत्र माह के शुरू होते ही शादियों के लग्न शुरू हो गए हैं। पहले से तय शादियों की तैयारियां जोर शोर से शुरू हो गई हैं।

यह भी पढ़ें 👉  चंपावत- यहाँ उत्तराखंड रोडवेज बस के हुए ब्रेक फेल, चालक की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा।

सैकड़ो लोग शादी के दिन दूल्हा-दुल्हन की खुशी में शामिल होने के लिए पहुंचते हैं। वहीं लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लगी होने से धारा 144 लागू की गई है। इस स्थिति में शादी में बिना अनुमति के मेहमानों को बुलाना संभव नहीं है।

ऐसे में प्रशासन ने अनुमति लेकर आयोजन करने की व्यवस्था बनाई है। इसके लिए शादी के कार्ड के साथ लोग ग्रामीण क्षेत्र में एसडीएम और शहरी क्षेत्र में सिटी मजिस्ट्रेट के यहां आवेदन कर सकते हैं। वही शादी के दौरान बारात ले जाने की अनुमति लेना जरूरी है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी -(बड़ी खबर) शहर में जल्द ही खुलेगा CGHS वेलनेस सेंटर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दी हरी झंडी

इसके लिए रूट के साथ ही वाहनों का ब्यौरा देना जरूरी है। 19 अप्रैल को मतदान के दिन एक से दूसरे जिले में बारात जाने पर इसकी पहले से अनुमति लेनी होगी। अनुमति नहीं लेने पर प्रशासन की ओर से एक्शन भी हो सकता है।

घर पर डीजे बजाने की भी लेनी होगी- शादी और इसके पहले मेहंदी के साथ ही होने वाले अन्य मांगलिक कार्यक्रमों में डीजे का उपयोग किया जाता है। अभी शादी की अनुमति लेने के दौरान इसकी जानकारी देना भी जरूरी किया है। बिना अनुमति के घर और बारात घर कहीं भी ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग प्रतिबंधित रहेगा।

यह भी पढ़ें 👉  रामनगर- जीपीपी आर्य कन्या इंटर कॉलेज की छात्रा ने प्रदेश में 17 वी रेंक पाकर किया स्कूल का नाम रोशन, परिजनों में खुशी की लहर।

आचार संहिता के दौरान धारा 144 लागू होने से शादी के आयोजन के लिए अनुमति लेना जरूरी है। प्रशासनिक अनुमति मिलने के बाद बिना बाधा के आयोजन किया जा सकता है। एपी बीजेपी सिटी मजिस्ट्रेट हल्द्वानी