उत्तराखण्डकुमाऊं,

उत्तराखंड- बनबसा, खटीमा, सितारगंज, सहित कई इलाकों में हालात हुए बेकाबू, NDRF, SDRF, सेना राहत बचाव में जुटी, जारी किए गए आपातकालीन दूरभाष नंबर

उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में जिलों में दो दिन से लगातार हो रही बारिश से जन जीवन अस्तव्यस्त है। चंपावत जिले में मानसून ने खतरे का ट्रेलर दिखाया है। यहां भारी बारिश के कारण क्वारला नदी पर बना झूला पुल बह गय जिससे 5 हजार लोगों का संपर्क कट गया है। जबकि तराई वाले बनबसा क्षेत्र में भीषण जलभराव से सैकड़ों लोगों की जान आफत में फंस गई। देर रात से ही एसडीआरएफ की टीम रेस्क्यू में जुटी है। बनबसा क्षेत्र में अत्यधिक जलभराव के बीच 100 से अधिक महिला, पुरुष व बच्चों को सकुशल रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुँचा दिया गया है।

 

 

रविवार से हो रही भारी बारिश से चंपावत जिले के जगपुरा और बनबसा में बाढ़ जैसे हालात हैं। जलभराव से दर्जनो परिवार पानी के बीच फंस गए। पानी लोगों के घरों के भीतर घुस गया। सूचना मिलते ही एसडीआरएफ की टीम तत्काल मौके पर पहुंची और जलभराव में फंसे लोगों का रेस्क्यू करके उनको सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। मुश्किल हालात में भी एसडीआरएफ कर्मियों ने रेस्क्यू ऑपरेशन को अंधेरे में ही अंजाम दिया। प्रभावित परिवारों को रैन बसेरा में ठहराया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  बिन्दुखत्ता निवासी युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत, परिवार में मचा कोहराम

 

झूला पुल बहने से 5 हजार लोगों का संपर्क कटा

चंपावत में क्वारला नदी भी बारिश के कारण उफान पर है। नदी के प्रचंड वेग से नदी पर बना बेलखेत का झूला पुल बह गया है। पुल बहने से करीब क्षेत्र की पांच हजार आबादी का संपर्क जिला मुख्यालय और राज्य के अन्य हिस्सों से कट गया है। लगातार हो रही बारिश से जगह जगह भूस्खलन भी हो रहा है। बजौन गांव को मुख्यालय से जोड़ने वाली सड़क भूस्खलन से धंस गई है। बनबसा क्षेत्र में देवीपुरा पंतर फार्म में बारिश के कारण तीन परिवारों को खतरा हो गया है। चंपावत जिले में लगातार हो रही बारिश से लोहाघाट, चंपावत, बनबसा और टनकपुर में बिजली गुल है। देर रात लोहाघाट में 33केवी लाइन में फॉल्ट आने से बिजली आपूर्ति ठप है।

यह भी पढ़ें 👉  राशिफल - आज मेष, सिंह और तुला राशि वालों को मिल सकती है बड़ी उपलब्धि, पढ़ें दैनिक राशिफल

 

जिलाधिकारी श्री उदयराज सिंह ने आम लोगों की जानकारी के लिए जिला एवं तहसील स्तर पर स्थापित नियंत्रण कक्षों के नंबर जारी करते हुए कहा है कि किसी भी आकस्मिकता की स्थिति में नियंत्रण कक्ष से चौबीसों घंटे संपर्क साधा जा सकता है। जिलाधिकारी ने मानसून को देखते हुए सभी संबंधित विभागों व अधिकारियों को निरंतर सतर्क रहकर किसी भी आकस्मिकता की स्थिति में त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तरायणी एवं लोहड़ी मेले के कल से तीन दिवसीय आयोजन को लेकर पुलिस, प्रशासन व कई विभागों की मेला समिति से हुई संयुक्त बैठक में सर्वसम्मति से कई निर्णय लिए गये।

 

वर्षाकाल को देखते हुए जिला एवं तहसील स्तर पर स्थापित नियंत्रण कक्ष चौबीसों घंटे संचालित किए जा रहे हैं। जिला मुख्यालय उधमसिंह नगर स्थित जिला आपातकालीन परिचालन केन्द्र से दूरभाष नंबर 05944-250250, 250222, 250500, 250719 टोल फ्री नंबर 1077-250823 पर संपर्क किया जा सकता है। तहसील जसपुर के नियंत्रण कक्ष से दूरभाष नंबर 9568457717, 9808822000 तहसील काशीपुर में 05947-274026, 9639711936 तहसील बाजपुर में 05949-281002, 9837224562 तहसील गदरपुर में 05949-231136, 8077482320 तहसील रूद्रपुर में 05944-2350010, तहसील किच्छा में 05944-264348, 9058508966 तहसील सितारगंज में 8392825345 और तहसील खटीमा में दूरभाष नंबर 05943-250023 9758595288 पर संपर्क किया जा सकता है।