उत्तराखण्डगढ़वाल,

उत्तराखंड- यहाँ लगी भीषण आग, 54 झोपड़ियां जलकर हुई राख, मौके पर मची अफरा-तफरी

देहरादून के सेलाकुई थाना क्षेत्र के भाऊवाला स्थित सुंदरवन बस्ती में अचानक आग लग गई। देखते ही देखते आग ने 54 झुग्गी झोपड़ियों को अपनी चपेट में ले लिया। सूचना पर दमकल वाहन मौके पर पहुंचे। इस दौरान सेलाकुई थाना पुलिस लोगों को बस्ती से बाहर निकाला।

 

करीब दो घंटे की कड़ी मश्क्कत के बाद दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पाया। गनीमत रही कि कोई व्यक्ति आग की चपेट में नहीं आया, हालांकि सभी झुग्गी झोपड़ी जलकर राख हो गईं। उधर, बस्ती वासियों का दावा है कि आग लगने के दौरान 90 झुग्गी झोपड़ी जली हैं।

 

 

भाऊवाला स्थित सुदंरवन बस्ती में दोपहर करीब दो बजे कुछ झोपड़ियों से धुआं उठने लगा। आग तेजी से बढ़ने लगी और आस-पास की झुग्गी झोपड़ियों को भी अपनी चपेट ले लिया। बस्ती में आग लगने से लोगों में अफरा-तफरी मच गई। लोग किसी तरह झोपड़ी में रखे अपने जरूरत के सामान को समेट कर इधर-उधर भागने का प्रयास करने लगे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- (बड़ी खबर) यहाँ धरना देकर आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले का चुनाव आयोग ने लिया संज्ञान, भाजपा विधायक सहित 150 पर मुकदमा दर्ज

 

 

सूचना पर कुछ ही देर में अग्निशन स्टेशन सेलाकुई से दमकल वाहन मौके पर पहुंच गए। दमकलकर्मियों ने आग बुझाना शुरू किया। इसी दौरान सीओ प्रेमनगर रीना राठौड़, तहसीलदार गौरा दत्त जोशी और थाना प्रभारी सेलाकुई शैंकी कुमार भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिसकर्मियों ने लोगों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला। आग इतनी विकराल थी कि उसे बुझाने में चार दमकल वाहनों का पानी कम पड़ गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ शराब पीने के बाद किसी बात को लेकर हुए विवाद के बाद युवक ने अपने साथी की पत्थरों से सर कुचलकर उतारा मौत के घाट।

 

 

देहरादून से दो और दमकल वाहन बुलाए गए। करीब चार बजे दमकलकर्मी आग पर काबू पाने में सफल हुए। ग्राम प्रधान भाऊवाला रमा थापा ने बताया की झोपड़ियों में रहने वाले 35 लोगों की सूची हमारे पास है, लेकिन यहां करीब 54 झोपड़ियां थीं।

 

 

इस दौरान प्रभावित रामकला देवी और ललिता देवी ने बताया कि वह 1999 से यहां पर झुग्गी झोपड़ी बनाकर रह रहे थे। यहां करीब 90 झुग्गी झोपड़ियां थीं। बताया कि पहले भी दो बार खाना बनाते हुए झुग्गी झोपड़ियों में आग लगी थी। उस दौरान भी सभी झुग्गी झोपड़ियां जलकर राख हो गई थीं। उन्होंने बताया कि आज भी अचानक से आग लगी और देखते ही देखते आग इतनी भयंकर हो गई कि उसे बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड बुलानी पड़ी। बताया कि उनके बिस्तर, कपड़े, राशन और अन्य जरूरी सामान सबकुछ आग की भेंट चढ़ गया।

यह भी पढ़ें 👉  रुद्रप्रयाग- यहाँ केदारनाथ पैदल मार्ग पर पहाड़ी से गिरे पत्थर की चपेट में आने से युवती की हुई दर्दनाक मौत, एक घायल।

 

अग्निशमन स्टेशन सेलाकुई के प्रभारी एफएसओ ईशम सिंह ने बताया कि थाना प्रभारी सेलाकुई की सूचना पर दमकल वाहन आठ मिनट में मौके पर पर पहुंच गए थे। बताया कि सेलाकुई से चार और देहरादून से दो दमकल वाहन मंगाए गए। आग पर काबू पाने में दो घंटे लगे। आग लगने का कारण की जांच की जा रही है। हो सकता है खाना बनाने के दौरान आग लगी होगी।