उत्तराखण्डकुमाऊं,

उत्तराखंड- यहाँ स्कूल को जा रही छात्रा को लावारिस कुत्तों के झुंड ने नोचकर किया गंभीर रूप से जख्मी, पीठ पर भारी बैग होने से नहीं भाग पाई छात्रा

पिथौरागढ़ में स्कूल जा रही एक छात्रा को लावारिस कुत्तों के झुंड ने नोचकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। पीठ पर किताबों से भरा बस्ता होने पर छात्रा कुत्तों के हमले से बचने के लिए भाग नहीं सकी। इस घटना से छात्रा बेहद डरी हुई है। वहीं पिथौरागढ़ जिला अस्पताल में तीन महीने में अब तक कुत्तों के काटने के 517 मामले आ चुके हैं।

 

नगर के लिंठ्यूडा निवासी दसवीं कक्षा की छात्रा लक्षिका बृहस्पतिवार सुबह स्कूल जा रही थी। तभी रास्ते में कुत्तों के झुंड ने उस पर हमला कर दिया। कुत्तों ने उसके हाथ और पैर पर गहरे जख्म कर दिए। सूचना पर घबराए परिजन छात्रा को तत्काल अस्पताल ले गए जहां चिकित्सकों ने उसका उपचार कर रेबीज वैक्सीन लगाया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड (अजब गजब) यहाँ युवक ने की सांड सवारी, सांड को दौड़ाया घोड़े की तरह, सोशल मीडिया हुआ वीडियो वायरल, देखे वीडियो।

 

इस घटना से शहर के लोग और छात्रा के परिजन सहमे हैं। छात्रा के परिजनों ने बताया कि कुत्तों के हमले से घबराई लक्षिका स्कूल जाने से डर रही है। छात्रा के अलावा बृहस्पतिवार को जिला अस्पताल में 41 लोग रेबीज का इंजेक्शन लगाने पहुंचे।वहीं जिला अस्पताल के पीएमएस डॉ. जेएस नबियाल ने बताया कि अस्पताल में रेबीज के टीके उपलब्ध हैं।

 

पिथौरागढ़ नगर में लावारिस कुत्तों के हमले बढ़ते ही जा रहे हैं। दो साल पूर्व नगर पालिका ने नगर में लावारिस घूम रहे 3500 कुत्तों का बधियाकरण किया था। इसके बावजूद इनकी संख्या में कोई कमी नहीं आई। लावारिस कुत्ते कूड़ेदान, गलियों और सड़कों पर सोए रहते हैं और अचानक ही पास से गुजर रहे बच्चों को काट देते हैं। सुबह, शाम सड़कों पर टहलने वाले लोगों के अलावा देर शाम अस्पताल, बाजार या स्टेशन से घर जाने वाले लोगों को इनसे सबसे अधिक खतरा रहता है। लावारिस कुत्ते पिछले तीन माह में 517 लोगों को काट चुके हैं।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) सीएम धामी ने अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक, दिए यह निर्देश।

 

पिथौरागढ़ नगर में लावारिस कुत्तों के बधियाकरण के लिए टीम पहुंच गई है। शुक्रवार या शनिवार से बधियाकरण शुरू हो जाएगा। बधियाकरण को लेकर बृहस्पतिवार को नगर पालिका में बैठक हुई। निर्णय लिया गया कि जिन स्थानों पर ज्यादा लावारिस कुत्ते घूम रहे हैं। उन स्थानों पर पहले बधियाकरण किया जाएगा। बधियाकरण के लिए एबीसी सेंटर को भी ठीक कर लिया गया है। बैठक में ईओ राजदेव जायसी ने कहा कि लोग पालतू कुत्तों का भी निर्धारित शुल्क देकर बधियाकरण शुरू करा सकते हैं। कहा कि नगर में 105 से अधिक लोग कुत्ते पालने के लिए लाइसेंस बना चुके हैं। बिना लाइसेंस के कुत्ते पालने वाले और पालतू कुत्तों को सड़क पर छोड़ने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी। कहा कि नगर से लगे ग्रामीण क्षेत्रों में भी कुत्तों का बधियाकरण किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- भारतीय दंड संहिता IPC और दंड प्रक्रिया संहिता CRPC से हटेंगे 160 साल पुराने उर्दू के कठिन शब्द, अब हिंदी की आसान भाषा पढ़ेगी पुलिस।

 

 

तीन माह में कुत्तों के हमले में घायल लोग

माह -मामले
मई – 231
जून- 206
जुलाई – 80