उत्तराखण्डकुमाऊं,

उत्तराखंड के जंगलों में बेकाबू आग को बुझाने के लिए वायु सैना ने संभाला मोर्चा, नैनीताल में बेकाबू आग पर दो हेलीकॉप्टर से पानी की बौछार

  • नैनीताल की सभी झीलों में नौकायन बंद कराया, भीमताल झील से लिफ्ट किया गया पानी
  • सुबह साढ़े सात बजे से जुटे दोनों हेलीकाप्टर, दो घंटे बाद बुझाई जा सकी आग

उत्तराखंड के जंगलों में बेकाबू हो चुकी आग को बुझाने के लिए वायु सेना ने मोर्चा संभाला है। नैनीताल के लड़ियाकांटा में लगी आग एयर फोर्स स्टेशन की तरफ बढ़ रही थी। वन विभाग व सेना के प्रयास के बाद भी जब स्थिति नहीं संभली तो वायु सेना को खुद ही हेलीकाप्टर उतारने पड़े।

आग बुझाने के लिए सुबह सात बजे से दोनों हेलीकाप्टर ने भीमताल झील से पानी लिफ्ट किया और फिर जंगल में बौछार की गई। पानी की जरूरत को देख प्रशासन ने नैनीताल की सभी झीलों में नौकायन बंद करवा दिया।

यह भी पढ़ें 👉  केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने उत्तराखंड को बजट में प्राथमिकता देने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का आभार जताया

करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद बाद आग की लपटों को बुझाया जा सका। अभी केवल लड़ियाकांटा की आग हेलीकाप्टर की मदद से बुझाई गई है। प्रशासन के अनुसार कुमाऊं के अन्य जंगलों में भी स्थिति बिगड़ने पर वायु सेना की मदद ली जा सकती है।

2016 में भी उत्तराखंड में जंगलों की आग नियंत्रण से बाहर हो गई थी। तब वायु सेना की ही मदद ली गई थी। शुक्रवार को नैनीताल में गेठिया के जंगल आग की चपेट में आ गए थे। लपटें इतनी भयानक थी कि वन विभाग के नियंत्रण के सारे प्रयास विफल हो गए। इसके ठीक ऊपर लड़ियाकांटा की पहाड़ी है, जहां वायु सेना का स्टेशन है। शाम को ही दो हेलीकाप्टर यहां पहुंच गए थे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-(बड़ी खबर) MBPG कॉलेज की छात्रसंघ अध्यक्ष रश्मि लमगड़िया चढ़ी छत पर

प्रशासन ने पानी की आवश्यकता पूरी करने के लिए नैनीताल, भीमताल, सातलाल और नौकुचियाताल झील में नौकायन बंद कराने का आदेश जारी किया। नैनी झील और भीमताल में हेलीकाप्टर से रेकी की गई, मगर अंधेरा हो जाने के कारण किसी भी झील से पानी लिफ्ट नहीं किया जा सका।

यह भी पढ़ें 👉  हेरिटेज टूर गाइड प्रशिक्षण की मुक्तेश्वर में त्रिशूल ऑर्चर्ड रिजॉर्ट में हुई शुरुआत।

शनिवार सुबह 6:30 बजे दोनों हेलीकाप्टर ने फिर से रेकी की। 7:30 बजे भीमताल झील से पानी लिफ्ट करना शुरू किया गया। बकेट में पानी भर इन हेलीकाप्टर ने जंगल में बौछार शुरू की। आखिर साढ़े 9 बजे आग बुझाने में सफलता मिल गई। आग की वजह से आसपास के बड़े हिस्से में धुंध फैल गई है।