उत्तराखण्डकुमाऊं,गढ़वाल,

लोकसभा चुनाव से पहले उत्तराखंड में ड्राई डे घोषित, 17 अप्रैल से 19 अप्रैल तक शराब की दुकानें रहेंगी बंद

  • उत्तराखंड में ड्राई डे घोषित- 17 अप्रैल से 19 अप्रैल तक बंद रहेंगी शराब की दुकानें।

उत्तराखंड (देहरादून)- चुनाव से पहले उत्तराखंड में ड्राई डे घोषित, अप्रैल और जून में इस दिन शराब की दुकानें रहेंगी बंद उत्तराखंड में 19 अप्रैल को मतदान होना है। ऐसे में कानून व्यवस्था बनाने के लिए राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने मतदान से 48 घंटे से पहले से लेकर मतदान समाप्त होने की अवधि तक शराब की दुकानों को बंद रखने के निर्देश दिए हैं। यह भी स्पष्ट किया गया है कि इस अवधि में वाणिज्यिक व निजी संस्थान व भवन में शराब व मादक पदार्थ की बिक्री प्रतिबंधित रहेगी।

प्रदेश में लोकसभा चुनाव के दृष्टिगत मतदान दिवस से 48 घंटे पहले व मतदान समाप्ति तक, यानी 17 अप्रैल से 19 अप्रैल शराब की दुकानें बंद रहेगी। मतगणना के दिन यानी चार जून को भी शराब की दुकानें बंद रहेंगी। इस अवधि में किसी भी होटल, रेस्टोरेंट, बार, दुकान आदि में भी शराब या अन्य मादक पदार्थ की बिक्री प्रतिबंधित रहेगी।

यह भी पढ़ें 👉  चिल्ड्रंस एकेडमी को मिला अंतरराष्ट्रीय शिक्षा पुरस्कार

प्रदेश में 19 अप्रैल को मतदान होना है। ऐसे में कानून व्यवस्था बनाने के लिए राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने मतदान से 48 घंटे से पहले से लेकर मतदान समाप्त होने की अवधि तक शराब की दुकानों को बंद रखने के निर्देश दिए हैं। यह भी स्पष्ट किया गया है कि इस अवधि में वाणिज्यिक व निजी संस्थान व भवन में शराब व मादक पदार्थ की बिक्री प्रतिबंधित रहेगी।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यहाँ डंफर की चपेट में आए बाइक सवार दो युवक, एक की मौके पर हुई मौत, दूसरा घायल

प्रदेश के 12892 बुजुर्ग एवं दिव्यांग मतदाता लोकसभा चुनाव में घर बैठे ही मतदान कर सकेंगे। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दी गई सुविधा का फायदा उठाते हुए 85 वर्ष से अधिक आयु के 9993 मतदाताओं और 2899 दिव्यांग मतदाताओं ने घर से ही पोस्टल बैलेट के जरिये मतदान करने का आवेदन किया है। पांच अप्रैल से यह प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। पहले चरण की प्रक्रिया 10 अप्रैल तक चलेगी।

द्वितीय चरण 13 अप्रैल से शुरू किया जाएगा। बुधवार को सचिवालय स्थित मीडिया सेंटर में पत्रकारों से बातचीत में अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी विजय कुमार जोगदंडे ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा व 85 वर्ष से अधिक आयु और दिव्यांग मतदाताओं को विभिन्न सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- लोकसभा चुनाव के रण में अपने छोड़ रहे कांग्रेस का साथ, बागियों की वजह से बढ़ गई कांग्रेस पार्टी की चिंता, इन कांग्रेसियों छोड़ा हाथ का साथ

लोकसभा चुनाव में आयोग ने ऐसे मतदाताओं को घर से ही डाक मतपत्र के जरिये मतदान की सुविधा दी है।कुमार जोगदंडे ने बताया कि 85 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग मतदाता और दिव्यांग मतदाताओं में से जिसने भी इसका विकल्प दिया था। उन्हें इसकी सुविधा दी जा रही है। इन मतदाताओं तक पहुंचने के लिए रूट प्लान तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि सभी प्रत्याशियों के साथ बैठक करते हुए रूट चार्ट, मतदान की तिथि और वृद्ध व दिव्यांग मतदाताओं की सूची उपलब्ध करा दी गई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 में 13732 वृद्ध और 2162 दिव्यांग मतदाताओं ने घर पर मतदान की सुविधा का उपयोग किया था।