उत्तराखण्डकुमाऊं,

हल्द्वानी- यहाँ कुमाऊं कमिश्नर ने रिहायशी क्षेत्र में चल रही नकली पेंट की फैक्ट्री पकड़ी, फैक्ट्री मालिक के ऊपर मुकदमा दर्ज करने के लिए निर्देश

हल्द्वानी न्यूज़– कुमाऊं कमिश्नर की जनसुनवाई के दौरान रामपुर रोड स्थित रिहायशी क्षेत्र में पेंट की फैक्ट्री चलने की शिकायत दर्ज की गई। कमिश्नर दीपक रावत ने मौके पर पहुंच कर फैक्ट्री का निरीक्षण किया। इस दौरान फैक्ट्री का ना तो कोई लाइसेंस पाया गया और ना ही ज्वलनशील उत्पादन के निर्माण के लिए फायर की एनओसी ली गई थी। फैक्ट्री में तमाम अनियमितताएं मिली। जिस पर कमिश्नर ने अग्निशमन व जीएसटी विभाग को तत्काल जांच कर गड़बड़ी पाए जाने पर मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए।

निरीक्षण के दौरान पाया गया की साबुन की फैक्ट्री के नाम पर क्षेत्र में नकली पेंट की फैक्ट्री संचालित की जा रही है। फैक्ट्री मालिक बाजार से एक्सपायरी पेंट खरीद कर उसे नई पैकिंग में बेचने के लिए तैयार कर रहा था। बिक्री के कई पर्चो में जीएसटी नहीं काटा गया था। कई बिलों में छेड़छाड़ की गई थी। इस पर आयुक्त ने फायर व जीएसटी विभाग के अधिकारियों को मौके पर बुलाया और तत्काल जांच शुरू कर दोषी पाए जाने पर फैक्ट्री मालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीतालः कुमांऊ विश्वविद्यालय में बीएड प्रवेश के लिए आवेदन हुआ शुरू, 20 जुलाई तक मौका, ऐसे करे आवेदन, पढ़े पूरी ख़बर।

कई कंपनियों की नकली पैकिंग मिली फैक्ट्री में पुट्टी, समोसम व व्हाइट सीमेंट की अलग-अलग कंपनियों की नकली पैकिंग बरामद की गई। अंदाजा लगाया जा रहा है की फैक्ट्री में बनने वाला नकली सामान कई कंपनियों को सप्लाई भी किया जा रहा था। जिसकी प्रशासन ने जांच शुरू कर दी है। वही सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि नकली सामान को लेकर भी जीएसटी विभाग की ओर से कार्यवाही की जा रही है। फैक्ट्री मालिक ने एक्सपायरी डेट के पेंट को नई डिब्बो में पैक करने की बात स्वीकार की है।

यह भी पढ़ें 👉  राशिफल- आज इन राशि के लोग वाद-विवाद से दूर रहें, सिंह राशि वालों को मिलेगी शुभ सूचना, पढ़े आज का राशिफल

फैक्ट्री में ज्वलनशील तारपीन और एसिड का मिला जखीरा फैक्ट्री में ज्वलनशील तारपीन के तेल व एसिड का जखीरा मिला। तारपीन के तेल का पेंट बनाने में उपयोग किया जा रहा था। फैक्ट्री के गोदाम से शहर में एसिड की सप्लाई की जा रही थी। इससे रिहायशी क्षेत्र में कोई भी बड़ी घटना हो सकती थी। एसिड की बिक्री के लिए लाइसेंस नहीं लिया गया था। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि सी ग्रेड के पेट्रोलियम पदार्थ तारपीन के तेल का एक समय में सिर्फ 4500 लीटर भंडारण किया जा सकता है। जबकि फैक्ट्री में 29 हजार लीटर तेल मिला है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यहाँ युवक को कार सवारों ने मारी गोली, मचा हड़कंप, पुलिस जांच में जुटी