उत्तराखण्डकुमाऊं,

उत्तराखंड- परगना श्री कैंची धाम नाम से जानी जाएगी जिले की यह तहसील, केंद्र सरकार से मिली मंजूरी, बाबा के भक्तों ने सीएम धामी का जताया आभार

देहरादून न्यूज़- नैनीताल जनपद की कोश्याकुटोली को अब परगना श्री कैंची धाम तहसील के नाम से जाना जाएगा। भारत सरकार ने उत्तराखंड सरकार की ओर से भेजे गए तहसील नाम परिवर्तन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

 

मुख्यमंत्री धामी ने बीते वर्ष कैंची धाम मंदिर के स्थापना दिवस (15 जून) समारोह के मौके पर कोश्याकुटोली तहसील को कैंची धाम के नाम पर करने की घोषणा की थी। सीएम को घोषणा को अमलीजामा पहनाने के लिए प्रदेश सरकार की ओर से तहसील के नाम परिवर्तन का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा गया था। मुख्यमंत्री की यह पहल रंग लाई है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यहाँ बिना हेलमेट के हर 5वां व्यक्ति दोपहिया दौड़ा रहा, अब हल्द्वानी पुलिस चलाएगी अभियान

 

भारत सरकार की ओर से सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद कोश्याकुटोली तहसील का नाम बदलकर परगना श्री कैंची धाम तहसील करने की मंजूरी दे दी गई है।

यह भी पढ़ें 👉  यहाँ अनियंत्रित होकर खाई में गिरी कार, सगाई के कार्यक्रम से लौट रहे थे कार सवार , एक की मौत, पांच घायल

 

क्षेत्रीय जनता और बाबा नीब करौरी महाराज के भक्तों ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के इस फैसले का जोरदार स्वागत किया है। श्रद्धालुओं का कहना है कि देश दुनिया के लाखों भक्तों की बाबा नीब करौरी महाराज के प्रति भारी आस्था है। यहां रोजाना भारी संख्या में बाबा के भक्त धाम में दर्शन को पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-(बड़ी खबर) कल होने वाले छात्र संघ चुनाव में छात्रों के हुड़दंग को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने रैपिड एक्शन फोर्स लगाई

 

कैंची धाम में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए उत्तराखण्ड सरकार यहां सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में लगातार काम कर रही है। धाम के चतुर्दिक विकास की खातिर कैंची धाम को मानसखण्ड मन्दिरमाला मिशन में भी शामिल किया गया है।