उत्तराखण्डगढ़वाल,

लद्दाख में टैंक अभ्यास के दौरान नदी पार करते समय हुआ हादसा, उत्‍तराखंड का एक जवान भी हुआ बलिदानी

  • लद्दाख में टी- 72 टैंक के नदी को पार करते समय हुआ हादसा
  • सोमवार को पाबौ स्थित पैतृक घाट में होगा अंतिम संस्कार

लद्दाख में टी- 72 टैंक के नदी को पार करते समय जल स्तर बढ़ने में बलिदान हुए जवानों में एक जवान पौड़ी जनपद के विकासखंड पाबौ के बिशल्ड गांव का रहने वाला भूपेंद्र सिंह नेगी भी था। ग्रामीण व गांव के रिश्ते में भाई विवेक ने बताया कि भूपेंद्र के बलिदान होने की सूचना स्वजन को मिली है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल दुग्ध संघ के वार्षिक सामान्य निकाय अधिवेशन में 247 करोड का बजट पारित, दुग्ध उत्पादकों के दुग्ध क्रय दर में 1 रुपये बढ़ाने की घोषणा।

 

भूपेंद्र की माता का पूर्व में ही निधन हो चुका है। भूपेंद्र की पत्नी तीन बच्चों को पढ़ाने के लिए देहरादून में रहती हैं। साथ में बलिदानी के पिता भी उनके साथ देहरादून में रहते हैं। विवेक ने बताया कि करीब एक साल पहले वह गर्मियों की छुट्टी में वे घर आए थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहाँ युवक का कमरे में फंदे से लटका मिला शव, फर्श पर थे खून के धब्बे, पुलिस जांच में जुटी

 

सोमवार को पाबौ स्थित उनके पैतृक घाट में अंतिम संस्कार होगा। घटना के बाद से गांव में मातम छाया है। स्वजन का रो-रो कर बुरा हाल है। वही जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि सैनिक का पार्थिव शरीर सोमवार तक पौड़ी के विशल्ड गांव आने की जानकारी मिली है।

 

मुख्यमंत्री धामी ने जताया शोक

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लद्दाख में सेना के टैंक में सवार जवानों के नदी पार करने के दौरान जलस्तर बढ़ने से बलिदान पर शोक प्रकट किया है। मुख्यमंत्री ने ईश्वर से सभी बलिदानियों की आत्मा की शांति और उनके स्वजन को असीम दुख सहने की शक्ति देने की कामना की है। उन्हाेंने कहा कि दुख की इस घड़ी में पूरा देश शोक संतप्त स्वजन के साथ खड़ा है।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून -UKPSC की तरफ से इन भर्तियों को मिली हरी झंडी, तो यह भर्तियां होंगी पुनः