उत्तराखण्डकुमाऊं,

हल्द्वानी हिंसा का आज तीसरा दिन- आठ फरवरी से इंटरनेट सेवाएं है बंद, कर्फ्यू जारी, पांच हजार लोगों पर हुआ केस दर्ज

हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र में हुए बवाल के बाद सुरक्षा के दृष्टिगत शहर में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई। इससे लोगों का आमजीवन  काफी प्रभावित रहा। कर्फ्यू लगने से घरों में कैद लोग बिना इंटरनेट के काफी परेशान रहे।आपको बता दें कि, बनभूलपुरा हिंसा मामले में पुलिस ने 18 नामजद समेत पांच हजार उपद्रवियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया।

शहर में बृहस्पतिवार रात करीब दस बजे से इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी। बीएसएनएल, वोडाफोन, एयरटेल, जियो समेत अन्य नेटवर्क पर इंटरनेट सेवा संचालित नहीं हो पाई। ऐसे में सैकड़ों यूजर्स सूचना न मिल पाने के कारण परेशान रहे। इंटरनेट सेवा बंद होने से वर्क फ्राॅम होम से जुड़े लोगों का काम भी प्रभावित रहा। वहीं परीक्षा की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों को भी खासी दिक्कत हुई है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्दूचौड़ क्षेत्र में हर्बल प्रोडक्ट्स बना रहे कारखाने में प्रशासन ने मारा छापा, लाइसेंस नहीं मिलने पर कारखाने को किया सील, सैंपल जांच को भेजें

बीएसएनएल के डीजीएम भीम बहादुर ने बताया कि पुलिस प्रशासन की ओर से जब तक अनुमति नहीं दी जाएगी तब तक संचार सेवा सुचारु नहीं होगी। बताया कि शहर के बाहरी क्षेत्र में भी इंटरनेट को बंद किया जा रहा है, जिस कारण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से शहर में अराजकता का माहौल न बने।

यह भी पढ़ें 👉  बसपा ने उत्तराखंड की चार सीटों पर किये प्रत्याशी घोषित, इन पर लगाया दांव

वर्क फ्राॅम होम से जुड़े लोगों का काम रहा प्रभावित

  • हाइडिल गेट निवासी दिपांशु कुंवर ने बताया कि उनका काम डिजिटल मार्केटिंग का है। इंटरनेट न होने से बाहर के क्लाइंट से बातचीत नहीं हो पाई जिसके कारण काम प्रभावित रहा। 
  • सीएमटी कॉलोनी निवासी विकास कूंडू ने बताया कि वो वर्क फ्राॅम होम कर रहे हैं, रात से नेट बंद होने के चलते उनके ऑफिस का काम नहीं हो पाया। ऑफिस में भी संपर्क करने में खासी परेशानी हुई।
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- प्रदेशभर में शुरू हुआ छात्र संघ चुनाव के लिए मतदान, आज ही आएंगे परिणाम

बता दें कि, बनभूलपुरा हिंसा मामले में पुलिस ने 18 नामजद समेत पांच हजार उपद्रवियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। घटनास्थल और आसपास के इलाके से पांच शव बरामद कर लिए गए हैं। एक व्यक्ति की मौत बरेली ले जाते समय हो गई, हालांकि प्रशासन ने इसकी पुष्टि नहीं की है। पुलिस ने चार लोगों को हिरासत में लेकर सीसीटीवी फुटेज और वीडियो रिकॉर्डिंग कब्जे में ले ली है। पुलिस ने कई डीबीआर की हार्ड डिस्क कब्जे में ली है।