उत्तराखण्डगढ़वाल,

उत्तराखंड- यहाँ मंदिर परिसर में पुजारी और कर्मचारियों से भिड़े श्रद्धालु, जमकर चले लाठी डंडे, फिर सबने मिलकर ऐसे सिखाया सबक

हरिद्वार न्यूज़- सिद्धपीठ दक्षिण काली मंदिर में रविवार को श्रद्धालुओं और पार्किंग कर्मचारियों के बीच विवाद हो गया। आरोप है कि श्रद्धालुओं ने पहले पार्किंग कर्मचारी से मारपीट की। फिर बीच बचाव कराने आए पुजारियों से हाथापाई की। जिसके बाद पुजारी और कर्मचारियों ने मिलकर आरोपितों को खदेड़ा। पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। वहीं, दक्षिण पीठाधीश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि ने पूरे प्रकरण के पीछे किसी षडयंत्र का अंदेशा जताया है।

यह भी पढ़ें 👉  एलबीएस वार्षिक क्रीड़ा प्रतियोगिताओं में निर्जला गैड़ा, कमल चंद्र और अंकित कुलेगी बने चैम्पियन

पुलिस के मुताबिक, सिद्धपीठ दक्षिण काली मंदिर में रविवार को सहारनपुर के कुछ श्रद्धालु आए थे। मंदिर परिसर में गाड़ी ले जाने पर कर्मचारियों ने उनसे पर्ची कटवाने को कहा। इस बात को लेकर उनके बीच कहासुनी हो गई। आरोप है कि श्रद्धालुओं ने कर्मचारियों को पीट दिया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः यहां ग्राम प्रधान के शैक्षिक प्रमाण पत्र निकले फर्जी, एसडीएम ने किया अयोग्य घोषित, जिला पंचायत अधिकारी को भेजी रिपोर्ट।

शोर शराबा सुनकर मंदिर के पुजारी भी आ गए और उन्होंने समझाने का प्रयास किया। आरोप है कि श्रद्धालुओं ने उनके साथ भी अभद्रता करते हुए हाथापाई कर दी। इसके बाद पुजारी और कर्मचारियों ने मिलकर आरोपियों को दौड़ाया। सूचना पर चंडी घाट चौकी से पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और विवाद शांत कराया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : यहाँ हुआ दर्दनाक हादसा , खाई में गिरी पिकअप, तीन बच्चों की मौत, चालक लापता

वहीं, इस मामले में दक्षिण पीठाधीश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि का कहना है कि श्रद्धालु बनकर कुछ लोग आए थे, जो सहारनपुर के बताए जा रहे हैं। उन्होंने पुजारी व कर्मचरियों से मारपीट की है। इसके पीछे कोई षडयंत्र हो सकता है।