उत्तराखण्डकुमाऊं,

उत्तराखंड में जंगलों की आग ने विकराल रूप किया धारण, आग की चपेट में आने से एक महिला बुरी तरह झुलसी, इलाज के दौरान महिला की हुई मौत

उत्तराखंड में जंगलों की आग ने अब विकराल रूप धारण कर दिया है। इसी आग की चपेट में आने से 65 वर्षीय महिला बुरी तरह से झुलस गई। आनन फानन में परिजनों ने महिला को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहाँ हालत नाजुक होने से डाक्टरों ने उसे ऋषिकेश एम्स रेफर कर दिया। जहां देर रात महिला ने दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है कि परखुंडे (घास के ढेर) को बचाने के चलते महिला आग की चपेट में आ गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां स्कूल की नाबालिग छात्राओं से छेड़छाड़ करने के मामले कलयुगी गुरु जी को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

 

पाैड़ी जिला मुख्यालय के जंगलों में बीते दिनों से धधक रही आग अब घरों तक पहुंचने लगी है। बीते शनिवार को पौड़ी तहसील क्षेत्र के बनगढ़स्यूं-2 के थापली गांव के जंगलों में लगी आग खेतों तक पहुंच गई।

 

राजस्व उप निरीक्षक (आरएसआई) राजेंद्र सिंह ने बताया कि बीते शनिवार को थापली गांव के जंगल में आग लगी थी। इसी बीच आग तेजी से खेतों की ओर होते हुए घर के समीप परखुंडे तक पहुंच गई। आग को परखुंडे की ओर आते देख सावित्री देवी (65) घास को उतारने लगी। तभी तेज हवा चली और घास ने आग पकड़ ली।

यह भी पढ़ें 👉  लालकुआँ- बिन्दुखत्ता निवासी युवक की सड़क हादसे में हुई मौत, परिवार में मचा कोहराम

 

पति कृपाल सिंह व अन्य परिजनों से आग को बुझाने का काफी प्रयास किया, लेकिन महिला काफी झुलस चुकी थी। परिजन उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। जहां उसकी गंभीर हालत को देखकर चिकित्सकों ने ऋषिकेश एम्स रेफर कर दिया। बताया कि देर रात महिला की उपचार के दौरान मौत हो गई। आरएसआई राजेंद्र सिंह के मुताबिक, दैवीय आपदा के चलते मौत होने पर महिला के परिजनों को आपदा मद से आर्थिक सहायता दी जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- डीएम के आदेश से रात को बंद रहेगा यह राष्ट्रीय राजमार्ग, जारी किए निर्देश।